वैशाख की पूर्णिमा के दिन विधि विधान से पूजन-अर्चन करने से मनवांछित फल की प्राप्ति होती है- स्वामी श्री बालमुकुंद आचार्य जी महाराज हाथोज धाम।

1105

जयपुर 26 मई 2021।(निक धार्मिक)पीपल पूर्णिमा एवं बुध पुर्णिमा के शुभ अवसर पर आज श्री बालाजी जन कल्याण सेवा ट्रस्ट हाथोज धाम के तत्वाधान में दक्षिण मुखी बालाजी गौशाला परिसर में पीपल का वृक्ष लगाकर पूजन अर्चन कर पीपल के वृक्ष की आरती उतारी जाएगी। स्वामी श्री बालमुकुंद आचार्य जी महाराज ने बताया कि वैशाख पूर्णिमा के दिन विधि विधान से पूजन अर्चन करने से मनोवांछित फल की प्राप्ति होती है।
शास्त्रों में बताया गया है कि पूर्णिमा के दिन पीपल के वृक्ष में मां लक्ष्मी का वास होता है। इस दिन सुबह स्नान करके पीपल के पेड़ पर कुछ मीठा चढ़ाकर जल अर्पित करना चाहिए वैशाख पूर्णिमा के दिन सुबह स्नान से पहले व्रत का संकल्प लें पवित्र नदी या कुंड में स्नान करें स्नान से पूर्व वरुण देव को प्रणाम करें स्नान के पश्चात सूर्य मंत्र का जाप करते हुए सूर्य देव को अर्घ्य देना चाहिए।

स्नान से निवृत होकर भगवान मधुसूदन की पूजा अर्चन कर उन्हें नैवेद्य अर्पित कर दान दक्षिणा देने से भगवान मधुसूदन का अपार आशीर्वाद प्राप्त होता है और घर में मां लक्ष्मी का वास होता है।