SB-107,बापू नगर,टोंक रोड के सैटबैक की जमीन पर किया जा रहा है,अवैध निर्माण,, सुरेश चौधरी पहले भी महापौर से अधिक ताकत रखता था,आज भी पदोन्नति के साथ अधिक पावर रखता है सुरेश चौधरी,, इस प्रकरण से या इससे पूर्व मामलों से यही लगता है,,

92

जयपुर 30 नवंबर 2020।(निक यूडीएच)आपको याद होगा कि जब डा.सौम्या गुर्जर ने नगर निगम ग्रेटर(जयपुर)के महापौर की शपथ ली थी तो उनके समक्ष शहर के जागरूक पत्रकार ने नगर निगम के सामने भूखंड SB-107,बापू नगर,टोंक रोड के सैटबैक की जमीन पर हो रहे अवैध व्यवसायिक निर्माण का मामला रखा था,पत्रकार महेश शर्मा के तीखे सवालों का जवाब देते हुए डा.सौम्या गुर्जर ने जयपुर की जनता को आश्वस्त किया था कि शहर में हो रहे अवैध निर्माणों को नहीं बक्शा जाएगा चाहे वह किसी अमीर का हो या फिर किसी गरीब का|ऐसे मामलों में लिप्त अधिकारीयों के विरुद्ध भी कार्यवाही का भरोसा उनके द्वारा दिलाया गया था|

इस मामले में नगर निगम के उपायुक्त की भूमिका संदिग्ध बनी हुई है क्यूंकि वह जानबूझ कर कोर्ट और महापौर के समक्ष यह तथ्य प्रस्तुत नहीं कर रहे है कि जिस विवादित जमीन पर निर्माण की बात अवैध निर्माणकर्ता/भूमाफिया श्री शैलेश लक्खी कर रहे है वह तो सैटबैक की जमीन है जिस पर हर हालत में चाहे, भूखंड का पुनर्विभाजन हो चूका हो,के बाद भी निर्माण नहीं करवाया जा सकता| जबकि वास्तविकता यह है कि इस भूखंड SB-107 का आज दिन तक पुनर्विभाजन नही करवाया गया है|सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि मौके पर हो रहा निर्माण आवासीय नहीं होकर व्यवसायिक है जिसे किसी भी हालत में अनुज्ञेय नहीं किया जा सकता|

इस मामले में सबसे बड़ा सवाल यह है कि क्या मेयर सौम्या गुर्जर जयपुर की जनता से किये गए अपने पहले वादे को निभा पायेगी?क्या हमारे द्वारा सच सामने लाने के बाद वह अवैध निर्माण को ध्वस्त करने हेतु माननीय न्यायालय के समक्ष सही तथ्य रखने के आदेश निगम के जिम्मेदार अधिकारीयों को देगी?क्या ज़ोन के उपायुक्त श्री सुरेश चौधरी और अवैध निर्माणकर्ता/भूमाफिया श्री शैलेश लक्खी के विरुद्ध क़ानूनी कार्यवाही की जाएगी?