गणपति पूजन का शुभ मुहूर्त,, गणेश पूजा मुहूर्त 22 अगस्त 2020 की मध्याह्न में सुबह 11 बजकर 06 मिनट से दोपहर 01 बजकर 42 मिनट तक ,,

868

सुबह 07.42 से 09.18 शुभ का चौघड़िया
मध्याह्न 12.30 से 05.18 चर, लाभ और अमृत का चौघड़िया।
चतुर्थी तिथि प्रारम्भ – रात 11 बजकर 02 मिनट से (21/अगस्त/ 2020)
चतुर्थी तिथि समाप्त – शाम 07 बजकर 57 मिनट तक (22/अगस्त/2020)
22 अगस्त 2020 को चन्द्रोदय का समय रात 9 बजकर 8 मिनट पर है।
जयपुर 21 अगस्त गणेश चतुर्थी मैं क्या करें उपाय कि आए समृद्धि,,
गणेश जी को प्रसन्न करने के आसान तरीके,,
हर कोई सुख-सौभाग्य-समृद्धि पाना चाहता है और इसके लिए सभी लोग कोशिश भी करते हैं, लेकिन कई बार लाख कोशिशों के बाद भी मनोकामना पूरी नहीं होती. अगर आपके साथ भी ऐसा हो रहा है, तो गणेश चतुर्थी के शुभ अवसर पर गणेश जी को प्रसन्न करके देखिए, आपकी मनोकामना ज़रूर पूरी होगी. आइए, जानते हैं गणेश जी को प्रसन्न करने के आसान तरीके.

1) गणेश उत्सव के दौरान रोज गणपति को घी और गुड़ का भोग लगाएं और उसे गोमाता को खिलाएं. ऐसा करने से धन संबंधी परेशानियां दूर होती हैं.
2) दरिद्रता दूर करने के लिए कमल पर विराजमान गणपति की पूजा करें, आपको धनलाभ अवश्य होगा.
3) विद्यार्थियों को गणपति को दुर्वा अर्पित करना चाहिए, ऐसा करने से उनके ज्ञान में वृद्धि होगी.
4) बुरी नज़र से बचने और हर क्षेत्र में आगे बढ़ने के लिए गणेश उत्सव के पहले दिन सफ़ेद गणपति की अपने घर में विधि-विधान से स्थापना करें और फिर रोज उसकी पूजा करें.
5) यदि किसी लड़की की शादी में रुकावट आ रही है, तो रोज गणपति के सामने रुद्राक्ष की 11 माला जपें और ‘ॐ गं गणपतये नमः’ का जाप करें. फिर गणपति को मोदक का भोग लगाएं. फिर गणपति के सामने अपनी मनोकामना व्यक्त करें. ऐसा करने से जल्दी ही आपकी शादी हो जाएगी.
6) मनचाहा घर खरीदना चाहते हैं, तो गणेश उत्सव के दौरान रोज गणपति के सामने बैठकर गणपति स्तोत्र का 11 बार पाठ करें और 21 दूर्वादल गणेश जी को अर्पित करें. आपकी मनोकामना जरूर पूरी होगी.
7) मनचाही नौकरी पाने के लिए गणपति के सामने लाल आसन पर बैठकर ‘गणपति अथर्वशीर्ष’ का 11 बार पाठ करें और गणपति को लड्डू का भोग लगाएं. फिर गणपति के सामने अपनी मनोकामना व्यक्त करें. ऐसा करने से आपको मनचाही नौकरी जरूर मिल जाएगी.
8) गणपति को कभी भी तुलसी अर्पण न करें.
9) गणपति को सफेद चंदन भी कभी न चढ़ाएं.
10) भाद्रपद चतुर्थी को चन्द्रमा का दर्शन न करें, ऐसा करने से कलंक लगने का भय रहता है.

पँ. हरीश शर्मा “ज्योतिष मार्तण्ड”
श्री महाकाल ज्योतिष कार्यालय, जयपुर
09351303934