निदेशालय मेडिकल हेल्थ और ट्रांसपोर्ट नगर थाना दोनों सवालों के घेरे में,, महिला नर्सिंग कर्मियों को छेड़ने, घूरने और अश्लील हरकत करने वाला नर्सिंग ऑफिसर सुनील हरदेनिया राज्य सेवा से निलंबित,, हालांकि निलंबन पत्र कुछ दिनों बाद सार्वजनिक किया गया या हुआ ?

529

जयपुर 15 सितंबर 2022।(निक विशेष)हालांकि कुछ हद तक महिला नर्सिंग कर्मियों को सुनील के निलंबन से राहत मिल सकती है लेकिन अब निदेशालय पर सवाल उठता है कि जो व्यक्ति उपलब्ध ही नहीं है फरार है तो निलंबन आदेश अनुसार 50% निर्वहन बता किस बात का? क्योंकि गौरतलब है कि निलंबन आदेश 26 अगस्त का है आज 15 सितंबर हो चुकी है निदेशालय यह बताएं कि 15 सितंबर तक क्या सुनील ने अपनी उपस्थिति दर्ज करा रखी है, अगर नहीं करा रखी है तो फिर मात्र निलंबन से अब निर्वहन भत्ता 50% देने से का क्या औचित्य ? जबकि सुनील पर अश्लील हरकत करने और जाति विशेष सूचक संबंधी गंभीर आरोप पर एफआईआर दर्ज है।

दूसरा ट्रांसपोर्ट नगर थाने पर भी सवाल उठना स्वाभाविक है कि जब निदेशालय में 27 जुलाई को सुनील ने अपनी उपस्थिति दर्ज कराई थी। तब ट्रांसपोर्ट नगर थाना क्या कर रही थी?
अब तक ट्रांसपोर्ट नगर थाना क्या कर रही है ? समझना होगा कि एक लोक सेवक जिस पर गंभीर आरोपों की
एफआईआर दर्ज है तथा दूसरे मुकदमे में गैर जमानती धारा है जहां तक जानकारी है। तो फिर अब तक ट्रांसपोर्ट नगर थाना पुलिस उसे ढूंढ क्यों नहीं पाई ? उन दो पीड़ित महिला नर्सिंग कर्मियों को वास्तव में न्याय क्यों नहीं दिला पाई अबतक ? वास्तव में ट्रांसपोर्ट नगर थाने में कोई कार्यवाही की है तो वह सार्वजनिक करें।
निदेशालय चिकित्सा एवं स्वास्थ्य निलंबन के बजाय सख्ती के साथ सुनील पर क्या कार्रवाई करता है यह तो वही जाने ?पर महिला नर्सिंग कर्मियों को न्याय मिलना चाहिए।

मामला : अभी जुलाई माह ट्रांसपोर्ट नगर थाने में मनोचिकित्सालय जयपुर स्थित दो महिला नर्सिंग ऑफिसर ने एफआईआर दर्ज करवाई थी। दोनों महिला नर्सिंग ऑफिसर में मनो चिकित्सालय विभाग में कार्यरत सुनील हरदेनिया नर्सिंग ऑफिसर पर मानसिक और शारीरिक प्रताड़ना के अंतर्गत छेड़ने घूरने और उनका पीछा करने तथा अश्लील हरकतें करने आदि का गंभीर आरोप लगाया था।

ट्रांसपोर्ट नगर थाने में आरोपी सुनील को धारा 151 में गिरफ्तार कर लिया। जमानत होने पर अनुसंधान जारी रखा।
इसी के चलते निदेशालय ने सुनील हरदेनिया को निदेशालय में हाजरी देने का निर्देश जारी किया।