राजस्थानी मांड का रंग खूब जमा,साजन आया रे सखी तो काई मनोहार करा, केसरिया बालम आओ नी पधारो म्हारे देश,,

84

जयपुर 28 अगस्त 2022।(निक सांस्कृतिक) नेट थिएट कार्यक्रमों की श्रृंखला में आज राजस्थान के जाने-माने भजन, गजल और राजस्थानी मांड गायक *गोपाल सिंह राठौड़* अपनी खनकदार आवाज में राजस्थानी मांड *केसरिया बालम आओ नी पधारो म्हारे* देश सुनाकर दर्शकों को मंत्रमुग्ध कर दिया l

नेट थिएट के राजेंद्र शर्मा राजू ने बताया कि श्री राठौड़ ने कार्यक्रम की शुरुआत गणेश के श्लोक से की l उसके बाद उन्होंने जगजीत सिंह की ग़ज़ल *झुकी झुकी सी नजर, बेकरार है कि नहीं* सुना कर अपनी गायकी का सशक्त परिचय दिया और अंत में बहुत ही प्रसिद्ध भजन *इक राधा इक मीरा, दोनों ने श्याम को चाहा, अंतर क्या दोनों की चाह में देखो, इक प्रेम दीवानी इक दरस दीवानी* सुनाकर दर्शकों को कृष्ण भक्ति में लीन कर दिया l
इनके साथ तबले पर नवल डांगी ने अपनी उंगलियों का ऐसा जादू चलाया कि दर्शक झूम उठे l

    कार्यक्रम में कैमरा जितेंद्र शर्मा प्रकाश मनोज स्वामी और मंच व्यवस्था अंकित शर्मा नोनू और जीवितेश शर्मा की रही l