गणगौरी अस्पताल में केबिनेट मंत्री डॉ महेश जोशी व अस्पताल के डॉक्टर हर्षवर्धन की समझदारी से बड़ा हादसा टला, ठेकेदार मै.दीपक एंटरप्राइजेज की लापरवाही साफ नजर आई,,

232

पीडब्ल्यूडी की एक्सपर्ट टीम प्लांट को दुरुस्त करते हुए

जयपुर 16 जून 2022।(निक चिकित्सा) बीती शाम गणगौरी हॉस्पिटल के ऑक्सीजन गैस सिलेंडर स्टोर में अचानक शार्ट सर्किट की वजह से आग लग गई और ऑक्सीजन सप्लाई बंद हो गई। जिससे अस्पताल में अफरा मच गई। उस समय आईसीयू में 6 बच्चे ऑक्सीजन पर थे। बताया जा रहा है की ऑक्सीजन सिलेंडर स्टोर के पैनल पर सिलेंडर बदलते समय यह हादसा हुआ और गैस रिसने लगी ।

हादसे की जानकारी मिलते ही जलदाय मंत्री डॉ. महेश जोशी मौके पर अस्पताल पहुंचे साथ ही अस्पताल के सुपरिटेंडेंट डॉक्टर हर्षवर्धन ने मौके की नजाकत को देखते हुए पीडब्ल्यूडी के एक्सपर्ट की टीम को बुला कर बड़े हादसे को टाला टीम ने तुरंत एक्शन लेते हुए ऑक्सीजन की सप्लाई को जल्द से जल्द चालू करवाने मैं सहायता की। महेश जोशी ने अस्पताल प्रबंधन को हिदायत दी कि जान कीमती है इसे बचाने के लिए तुरंत उचित कदम उठाए जाएं ।

    विश्वस्त सूत्रों के हवाले से मिली जानकारी अनुसार उस वक्त ऑक्सीजन प्लांट के ठेकेदार दीपक एंटरप्राइजेज को जब इस बारे में सूचित करने के लिए फोन किया तो उनका फोन स्विच ऑफ आ रहा था। यह घोर लापरवाही का मामला है। आपको बता दें दीपक एंटरप्राइजेज को राज्य के सबसे बड़े अस्पताल सवाई मानसिंह अस्पताल(सुपर स्पेशलिटी विंग) में भी ऑक्सीजन प्लांट का ठेका दे रखा है।
    यह तो डॉ. हर्षवर्धन उनकी टीम ने मौके की नजाकत को देखते हुए उचित कदम उठाया, जिससे बड़ा हादसा टल गया। सवाल उठना लाजिमी है की ऐसे में अनुभवहीन ठेकेदारों को फॉर्म का ठेका देना कितना उचित ? यह एक जांच का विषय है और जो भी दोषी हो उस पर सख्त से सख्त कानूनी कार्रवाई होनी चाहिए।

    छपते छपते मै. दीपक एंटरप्राइजेज पर लापरवाही के मद्देनजर अस्पताल प्रशासन ने जांच बैठा दी है।