बगरू विधायक गंगा देवी ने मुख्य प्रवर्तन अधिकारी जेडीए रघुवीर सैनी व जेडीसी पर निशाना साधते हुए सदन में पूछे प्रश्न के जरिये मांगा हिसाब, कृषि व सरकारी भूमि पर आवासीय व व्यावसायिक निर्माणों के संरक्षक रघुवीर सैनी पर कब होगी कार्यवाही,,सीरीज- 2

1983

जयपुर 11 मार्च 2022।(निक यूडीएच)सबसे पहले यह सवाल उठता है की प्रतिनियुक्ति पर आए मुख्य नियंत्रक पद पर काबिज रघुवीर सैनी के लिए नियमों में तब्दीली की गई है या कुछ और वजह है ? जेडीए की प्रवर्तन शाखा पर अवैध निर्माण कि शिकायत मिलने पर भी कार्यवाही नहीं करने का आरोप क्यों लगते रहते हैं ?

अभी हाल ही में न्यू इंडिया खबर ने मुख्य नियंत्रक प्रवर्तन रघुवीर सैनी की पत्रकारों का इलाज करने की धमकी के संबंध में खबर चलाई थी ।
उसके बाद अनेक लोगों ने न्यू इंडिया खबर से संपर्क किया और अपनी पीड़ा जताई, अवैध निर्माण की उनके द्वारा भेजी तस्वीरें और शिकायत, हम आपके साथ साझा कर रहे हैं।
सबसे पहले बगरु विधायक गंगा देवी का सदन मे उठाया गया सवाल,,,

    दूसरा मामला,, हीरा नगर,200 फीट बायपास का है जहाँ रिहायशी कॉलोनी में व्यावसायिक निर्माण हो रहा है। जिसकी शिकायत लिखित में राजस्थान उच्च न्यायालय के वकील खुर्शीद अहमद खान ने की है,पर कोई कार्यवाही नहीँ हो रही है,कौन है इसका जिम्मेदार ?

    शिकायत पत्र,


    कुछ महीनों पहले भी पत्रकारों ने *सेलिब्रेशन* के मामले में भी रघुवीर सैनी को शिकायत की थी और उस पर सैनी ने पत्रकारों को धमका कर अपने ऊंची पहुंच का परिचय दिया था।
    धमकाना गाली गलौज, खासकर शिकायतकर्ता और पत्रकारों के साथ ।
    यह शायद रघुवीर सैनी की शैली बन गई है।

    इससे पहले प्रकाशित खबर,,लिंक क्लिक करें नीचे

    मुख्य नियंत्रक प्रवर्तन जेडीए रघुवीर सैनी से जब अवैध निर्माण पर उनके एक अधिकारी पर लगे आरोप का वर्जन जानना चाहा तो बौखलाहट में सैनी चिल्लाने लगे और दे डाली पत्रकारों को इलाज करने की धमकी,,

    जॉन 7, जयपुर प्राधिकरण के अधिकारी सुरेश यादव पर लगे रुपए लेकर अवैध निर्माण करवाने के आरोप,, 200 फीट बाईपास, अजमेर रोड, हीरापुरा विस्तार, गणेश नगर बी, प्लॉट नंबर 3 का है मामला,मुख्य नियंत्रक,प्रवर्तन रघुवीर सैनी से होंगे सीधे सवाल जल्द,,

    अगली खबर में कई और होंगे खुलासे,,,

    मुख्यमंत्री अशोक गहलोत संबंधित मंत्री शांति धारीवाल उपरोक्त मामलों के साथ अन्य की जांच करवायें और निर्माण अवैध होने पर भ्रष्ट अधिकारियों पर तुरंत कार्रवाई की जाए।