पेलिएटिव केयर पर इंटरनेशनल कॉन्फ्रेंस का हुआ आगाज,,, हाइब्रिड मोड पर कार्यक्रम में 16 देशों से पेलिएटिव केयर विशेषज्ञ हुए शामिल ,, चिकित्सा प्रणाली की अहम सुविधा पेलिएटिव केयर – वैभव गालरिया

85

जयपुर 11 फरवरी 2022।(निक चिकित्सा) 29वीं इंटरनेशनल कॉन्फ्रेंस ऑफ इंडियन एसोसिएषन ऑफ पेलियेटिव केयर का उद्घाटन गुरूवार को जेएलएन रोड स्थित आरएएस क्लब में हुआ। भगवान महावीर कैंसर हॉस्पिटल एंड रिसर्च सेंटर और इंडियन एसोसिएषन ऑफ पेलिएटिव केयर की ओर से शुरू हुई इस कॉन्फ्रेंस के उदघाटन सत्र में चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग के प्रमुख शासन सचिव वैभव गालरिया ने पेलिएटिव केयर को चिकित्सा प्रणाली की अहम सुविधा बताते हुए इसकी बढ़ती आवश्यकता पर चर्चा की। हाइब्रिड मोड में आयोजित इस कार्यक्रम में 16 देशों से पेलिएटिव केयर विशेषज्ञों ने भाग लिया।

इस मौके पर बीएमसीएचआरसी के अध्यक्ष नवरतन कोठारी ने कैंसर पेशेंट्स में पेलिएटिव केयर की आवश्यकता के बारे में जानकारी दी साथ ही हॉस्पिटल की ओर से किए जा रहे कार्यों के बारे में बताया। कॉन्फ्रेंस की आयोजक सचिव डॉ अंजुम खान ने बताया कि विष्व में 56.8 मिलियन लोगों पेलिएटिव की जरूरत है, लेकिन आवश्यकता के अनुसार पेलिएटिव केयर विशेषज्ञ नहीं है। भारत देश में सिर्फ चार प्रतिशत लोगों को पेलिएटिव केयर की सुविधा ही मिल रही है। इस मौके पर आईएपी सी प्रेसिडेंट डॉ सुषमा भट्नागर, बीएमसीएचआरसी की वरिष्ठ उपाध्यक्ष अनिला कोठारी, प्रबंध न्यासी विमल चंद सुराणा, कोषाध्यक्ष टी डॉ पीएस लोढ़ा,अधिशासी निदेशक मेजर जनरल एस सी पारीक, कॉन्फ्रेंस आयोजक अध्यक्ष डॉ पुष्पलता गुप्ता भी मौजूद थी।

*Open link for this news*

*SUBSCRIBE OUR CHANNEL CONTACT ME FOR YOUR NEWS ON WHATSAPP 8107068124*

इन विषयों पर हुई चर्चा

    कॉन्फ्रेंस के तहत गुरुवार को नौ वर्कशॉप आयोजित हुई। इसका आयोजन बीएमसीएचआरसी के साथ ही एसएमएस मेडिकल कॉलेज और महात्मा गांधी हॉस्पिटल में किया गया। इन वर्कषॉप में 400 से अधिक प्रतिभागी शामिल हुए। डॉ पुष्पलता गुप्ता ने बताया कि शुक्रवार को मुख्य कॉन्फ्रेस के सत्रों की शुरूआत होगी। इनमें पेलिएटिव केयर विषय पर चल रहे़ शोध और विभिन्न बीमारियों में पेलिएटिव केयर की सुविधा सहित इससे जुड़े विभिन्न आयामों पर चर्चा की जाएगी