कार्यवाही पर कार्यवाही होने के बावजूद,, राजस्थान में अपराधी क्यो हो रहे बेलगाम, व्यापारी की दुकान में अंधाधुंध फायरिंग कर 50 लाख की रंगदारी मांगने के मामले का खुलासा, दोनों शूटर सहित 7 गिरफ्तार, घटना में प्रयुक्त एक पिस्टल व अपाचे बाईक बरामद, ,

362

भिवाडी 16 अक्टूबर 2021।(निक क्राइम) पुलिस ने गायत्री सुपर मार्केट में व्यापारी की दुकान पर हुई फायरिंग की वारदात का खुलासा कर सात अभियुक्तों को गिरफतार किया है। 50 लाख रुपये की रंगदारी के लिये दुकान में अंधाधुंध फायरिंग की गई थी। पुलिस ने घटना में प्रयुक्त एक पिस्टल व अपाचे बाईक बरामद की है। कनाडा में रहने वाला अप्रवासी गोल्डी बराड गैंग का संचालन करता है। लोकल गैंग लीडर चांद गुर्जर, हरवीर प्रधान व अनिल पण्डित ने भोण्डसी जेल से राजस्थान जेल में ट्रान्सफर होने के लिए वारदात को अंजाम दिलाया था।

गिरोह के सरगना व शूटर सहित 7 बदमाश गिरफ्तार*
एसपी राममूर्ति जोशी ने बताया कि पुलिस ने इस मामले में शूटर राजेन्द्र उर्फ गदर (20) निवासी अम्बेडकर नगर यूपी व चिराग जाटव (19) निवासी थाना रनहोली नई दिल्ली तथा मनजीत जाट (22) निवासी झज्जर हरियाणा, दीपक जाट (21) निवासी फरूखनगर जिला गुडगांवा, यशपाल जाट (26) निवासी थाना पटोदी जिला गुडगांवा हरियाणा, चांद उर्फ चांदराम गुर्जर (26) निवासी जिला रेवाडी हरियाणा एवं हरवीर प्रधान (30) निवासी खेडकी दौला गुडगांवा हरियाणा को गिरफ्तार किया है।
अंधाधुंध फायरिंग कर पर्ची फेंकी जिसमे लिखा;- ये तो अभी ट्रेलर है आगे फिल्मे दिखांयेगें (50 लाख) तैयार रख,,
एसपी जोशी ने बताया कि 7 अक्टूबर की सुबह बाईक पर आए दो लड़कों ने भिवाडी बाईपास स्थित गायत्री सुपर बाजार में व्यापारी आशीष शर्मा की दुकान में अंधाधुंध फायरिंग कर दी ओर एक पर्ची पटक गये। जिसमे चांद गुर्जर, हरवीर प्रधान व अनिल पंडत का नाम लिख 50 लाख रुपये मांगे गये। पर्ची में लिखा था ये तो अभी ट्रेलर है आगे फिल्मे दिखांयेगें (50 लाख) तैयार रख। व्यापारी आशीष शर्मा की रिपोर्ट पर मुकदमा दर्ज हुआ। मामले की गम्भीरता को देख आईजी संजय कुमार श्रोत्रिय के निर्देशन मे उनके द्वारा अज्ञात मुल्जिमों की गिरफ्तारी हेतु एएसपी अरूण मच्या के सुपरविजन, सीओ हरिराम कुमावत एवं थानाधिकारी भिवाडी जितेन्द्र सोलंकी व डीएसटी प्रभारी मुकेश कुमार के नेतृत्व मे विशेष टीमों का गठन किया गया।
*टिल्लू हत्याकांड में फरीदकोट जेल में बंद यशपाल चौधरी ने शूटर्स को दिया टास्क*
घटना की सूचना पर तुरन्त नाकाबंदी कराई गई व बाईक के आधार पर सैकड़ो सीसीटीवी फुटेज खंगाले गये। इस दौरान कांस्टेबल योगेश व बिरेन्द्र को सूचना मिली कि घटना के सूत्रधार राजेन्द्र उर्फ गदर व चिराग हैं, जिन्होने चांद गैंग के सदस्य यशपाल चौधरी के ईशारे पर वारदात को अन्जाम दिया हैं। टिल्लू हत्याकांड में फरीदकोट जेल में बंद यशपाल चौधरी को एसएचओ कोटकासिम महावीर सिह शेखावत की स्पेशल टीम द्वारा फरीदकोट जेल से गिरफतार कर लाया गया। एसएचओ खुशखेड़ा राजेश यादव की टीम फरूखनगर हरियाणा से अभियुक्त दीपक जाट को पकड़ कर लाई।

    *वारदात जेल में बन्द सरगना के ईशारे पर यशपाल उर्फ सरपंच ने करवाई थी*यह वारदात जेल में बन्द चांद, हरवीर व अनिल पंडित के ईशारे पर यशपाल उर्फ सरपंच ने करवाई थी। यशपाल जेल से गैंग को ऑपरेट करता है। स्थानीय सम्पर्क सूत्रों के माध्यम से रैकी के बाद टारगेट चिन्हित कर धमकी दी जाती है। कर्ज में दबे चिराग व राजेन्द्र उर्फ गदर सोशल मीडिया के जरिये यशपाल चौधरी के सम्पर्क में आये। 3 अक्टूबर को दोनों दिल्ली से फरुखनगर में दीपक जाट के पास पहुंचे। दो दिन उसके पास रुक कर 6 तारीख को दीपक से दो पिस्टल व राउण्ड लेकर घटना स्थल देखा व धारूहेडा मे गेस्ट हाउस मे रूक गये। अगली सुबह अपाचे बाईक से दोनों गायत्री सुपर मार्केट गये ओर फायरिंग कर दिल्ली की तरफ निकल गये। बाद में यशपाल के कहने पर पिलानी में मंजीत के पास जाकर रुके। जहां से सीओ चिड़ावा सुरेश के सहयोग से डीएसटी प्रभारी मुकेश एसआई मय टीम ने आरोपी राजेन्द्र उर्फ गदर, चिराग व मनजीत जाट को दस्तयाब कर लिया।
    ————-