जयपुर को मिला देश का पहला अटल कम्यूनिटी इनोवेशन सेंटर,,

531

जयपुर 18 सितम्बर 2021।(निक शिक्षा)जगतपुरा स्थित विवेकानंद ग्लोबल यूनिवर्सिटी (वीजीयू ) में शनिवार को अटल कम्युनिटी इनोवेशन सेंटर का उद्घाटन किया गया l इस अवसर पर कार्यक्रम का उद्घाटन डॉ चिंतन वैष्णव, निदेशक, एआईएम, नीति आयोग ने किया। उन्होंने मीडिया से बात करते हुए कहा, *आज एक महत्वपूर्ण दिन है, हमारे अब तक के जो सेंटर्स हैं, वो अटल इंक्यूबेशन सेंटर हैं, पर आज जो चालू होने जा रहा है, वह अटल कम्यूनिटी इनोवेशन सेंटर है। यह पहला सेंटर है,स्कीम का है, जो ग्रासरूट इनोवेटर, यानी हमारे गांव, कस्बों, छोटेशहरों से जो छोटे-छोटे इनोवेशन हो रहे हैं, उनको प्रोत्साहन कैसे मिले। उसकी एक इकोसिस्टम तैयार करने का दिशा में यह पहला सेंटर है। डॉ वैष्णव ने जानकारी साझा की, यह सेंटर (अटल कम्यूनिटी इनोवेशन सेंटर) अटल इनोवेशन मिशन के अंतर्गत हमारे देश का पहला सेंटर है। हमारे स्कीम में 50 तक सेंटर खोलने का लक्ष्य है, जिसमें यह पहला सेंटर है।

इस मौके पर वीजीयू के सीईओ ओंकार बागरिया ने अपने संबोधन में बताया कि पूरे भारत में यह पहला केंद्र होगा जिसे भारत सरकार की अटल इनोवेशन मिशन (एआईएम) , नीति आयोग के प्रोजेक्ट के तहत अटल कम्युनिटी इनोवेशन (एसीआईसी) सेंटर के रूप में स्थापित किया जा रहा है। यह हमारे संस्थान के लिए बड़े ही गौरव का विषय है। (एसीआईसी) ) का उद्देश्य उन नवीन विचारों का समर्थन और पोषण करना है जो बड़े विचारों का आकार ले सकते हैं और बेहतर कल के लिए समाज को बदलने में मददगार साबित होंगे। इस सेंटर से राजस्थान के परीश्रमी, लगनशील एवं साहसी द्यमियों व्यवसायिको को लाभ मिलेगा जो अपने-अपने व्यवसाय को उचाईयों की ओर ले जाना चाहते है।
इस समिट में कोरोना काल के पश्चात् स्टार्टअप कम्पनियों की चुनौतियां, सरकार की नीतियों एवं योजनाए तथा विक्रिय संसाधनों के क्षेत्रों के बारे में विस्तार से चर्चा की गई। इसके लिए आयोजकों द्वारा फाउंडर पैनल सहित कुल तीन पैनल भी गठित किये गए।
प्रथम पैनल में चर्चा का विषय था -” स्टार्ट अप के लिए वित्त पोषण के अवसर और पारिस्थितिकी तंत्र” जिसे विनय मोदी द्वारा संचालित किया गया। इसके पैनलिस्ट वरुण कोगटा – संस्थापक, कोग्टा फाइनेंस, सुशील शर्मा, अर्पिता अग्रवाल, रवि माथुर, अरिजीत भट्टाचार्य थे और सभी ने स्वीकार किया कि यह सेंटर हेंडी क्रॉफ्ट, क्रॉफ्ट, आर्ट, लाइफ स्टाइल, डिजाइन, एग्रीकल्चर जैसे उद्दमों को सस्टेनेबल डवलपमेंट गोल को मूर्तरूप देने एवं उनके विकास के लिए एक मील का पत्थर साबित होगा| जो व्यवसायी व कलाकार अपनी कला को ओर निखारना चाहते हैं एवं उसे लाभकारी संख्या में परिवर्तित करना चाहते हें उनके लिए मददगार होगा। द्वितीय पैनल में देश में इनोवेशन/स्टार्टअप इकोसिस्टम बनाने के लिए- सरकारी हस्तक्षेप और सहायता प्रणाली विषय पर विस्तार से चर्चा की गई । इसे रमेश लोगनाथन के द्वारा संचालित किया गया। इसमे मुख्य रूप से डॉ चिंतन वैष्णव, निदेशक, एआईएम, नीति आयोग, भारत सरकार, मुग्दा सिन्हा – प्रमुख सचिव, डीएसटी,राजस्थान सरकार, डॉ एमजे खान -अध्यक्ष, इंडियन चैंबर ऑफ फूड एंड एग्रीकल्चर, चिंतन वैष्णव, अशोक चंद, दीपन साहू, प्रो विजय वीर प्रेसिडेंट वीजीयू पनेलिस्ट के तौर पर शामिल हुए l
तृतीय पैनल में “स्टार्टअप समुदाय के लिए भारत में महामारी के उपरांत मुद्दे और चुनौतियां ”विषय पर विस्तार से चर्चा की गई। इसे परेश गुप्ता के द्वारा संचालित किया गया। इसमे मुख्य रूप से आयुष बंसल -वरिष्ठ निदेशक रणनीति, रेजरपे (भारत के सबसे बड़े स्टार्टअप में से एक), अनूप खंडेलवाल, अमित जैन – सीईओ और सह-संस्थापक -गिरनार सॉफ्ट एंड कारदेखो (जयपुर के सबसे बड़े स्टार्टअप में से एक) के संस्थापक, विश्वास श्रृंगी, रामेश्वर व्यास, डॉ. ललित के पंवार, चेयरमन वीजीयू पैनलिस्ट के तौर पर शामिल हुए l सभी इस बात से सहमत थे कि यह केंद्र उनकी पूरी सहायता करेगा जो लोग अपनी कला एवं हुनर को वैश्विक स्तर पर पहुंचाना एवं अपने व्यवसाय को लाभकारी संख्या में बदलना चाहते हैं एवं उनके आगे बढ़ने में सहायक होगा। ऐसे कलाकार इस कम्युनिटी सेंटर में आकर लोहे, लकड़ी, मिट्टी, आर्ट, फैशन, डिजाइनिंग में अपना करियर बनाना चाहते है अपने कार्य की शुरुआत कर सकते हैं l यूनिवर्सिटी प्रशासन द्वारा आगन्तुकों एंव मेहमानों को लेबोरेट्री देखने का अवसर भी मिला, जहाँ छात्रों द्वारा उनसे ब्लू पाटरी , सीएनसी मशीन की मदद से जूलरी इत्यादि वस्तुओं का निर्माण कराया जाता है एवं इस अवसर पर कई विषयों की वर्कशाप भी आयोजित की गई। इस अवसर पर पंद्रह प्रतिभावान युवा उत्पादकों ने अपने अपने उत्पादों का जीवंत प्रदर्शन किया तथा अपनी कला एवं हुनर को आमजन तक पहुंचाने का प्रयास किया। लोगों ने उनके उत्पाद को खरीद कर उनकी हौसला अफजाई भी की।

*OPEN LINK FOR NEWS*

*SUBSCRIBE OUR CHANNEL CONTACT FOR YOUR NEWS AND ADVERTISING ON WHATSAPP 8107068124*

    यह उल्लेखनीय है कि एसीआईसी ,वीजीयू फाउंडेशन अपने पहले आठ इनक्यूबेटीज को 5 से 10 लाख रुपए तक की सहायता राशि प्रदान करेगी और उद्यमियों को यहाँ उचित सलाह दी जायेगी ताकि वे अपना लक्ष्य प्राप्त कर सकें।