राज्य सरकार की उदासीनता से पेयजल के लिए जयपुर की जनता हुई बेहाल – सांसद रामचरण बोहरा

281

* राज्य सरकार की उदासीनता बनी जल जीवन मिशन के क्रियान्वयन में बाधा -सांसद रामचरण बोहरा

* सांसद रामचरण बोहरा ने राजस्थान को जल जीवन मिशन के अन्तर्गत वर्ष 2021-22 में रूपये 10,180.50 करोड़ आवंटित करने के लिए प्रधानमंत्री एवं जल-शक्ति मंत्री का जताया आभार

जयपुर 11 जून 2021।(निक राजनितिक)

सांसद रामचरण बोहरा ने राज्य सरकार द्वारा जल जीवन मिशन के धीमे क्रियान्वयन को लेकर अपने नाराजगी व्यक्त करते हुए कहा कि राज्य सरकार की उदासीनता के कारण जल जीवन मिशन के लक्ष्यों को अर्जित करने में बाधा उत्पन्न हो रही है। जिसके अन्तर्गत वर्ष 2024 तक ग्रामीण क्षेत्र के हर घर को क्रियाशील नल कनेक्शन देने का प्रधानमंत्री सपना साकार नहीं हो पा रहा है।

    सांसद बोहरा ने कहा कि पेयजल राज्य का विषय है एवं पेयजल आपूर्ति हेतु योजना बनाने, मंजुरी देने एवं उसे लागू करने का अधिकार राज्य सरकार में निहित है। जब केन्द्र सरकार जल जीवन मिशन के तहत आवंटित राशि को जारी कर चुकी है तो राज्य सरकार पेयजल मिशन के लिए इसका सदुपयोग क्यों नही ंकर पा रही है? राज्य सरकार की उदासीनता के कारण ही आज पानी के लिए ़़त्राहि-2 मची है और लोागों को निजी पेयजल प्रदाताओं से मोटी रकम देकर पानी के टैंकर मंगाने के लिए मजबूर होना पड़ रहा है और इसका दोष केन्द्र सरकार को दिया जा रहा है जो उचित नहीं है। राज्य सरकार को अपने कर्तव्यों का निर्वहन करना चाहिए ताकि आमजन को भीषण गर्मी में पेयजल के लिए परेशान नहीं होना पड़े।

      सांसद बोहरा ने कहा कि जल जीवन मिशन के तहत राजस्थान सरकार को वर्ष 2019-20 मेें रूपये 1,301.71 करोड़ आंवटित किया गये थे एवं वर्ष 2020-21 में यह आवंटन बढ़ाकर रूपये 2,522.03 करोड़ कर दिया गया था परंतु राज्य में इस मिशन के धीमे क्रियान्वयन के कारण राजस्थान सरकार मात्र रूपये 630.51 करोड़ ही ले सकी। वर्ष 2020-21 के लिए राज्य सरकार के पास वर्ष 2019-20 की शेष राशि रूपये 995.07 करोड़ मिलाकर केन्द्र की कुल रूपये 1,625.58 करोड़ राशि उपलब्ध थी। उसमें से राज्य सरकार दिनांक 31.03.2021 तक मात्र रूपये मात्र 762.04 करोड़ ही उपयोग कर पायी। इस तरह रूपये 863.53 करोड़ अभी भी राज्य सरकार के पास मौजूद है। इसके अलावा वर्तमान वित्तीय वर्ष यानि 2021-22 में राजस्थान का जल जीवन मिशन के अन्तर्गत आवंटन बढ़ाकर रूपये 10,180.50 करोड़ कर दिया गया है। जिसके लिए सांसद रामचरण बोहरा ने प्रधानमंत्री एवं जल-शक्ति मंत्री का जताया आभार।