स्विस बैंकों से काला धन वापस लाने का उचित समय,,

297

जयपुर 25 अप्रैल 2021। (निक विशेष,पूनमचन्द भंडारी एडवोकेट,महासचिव, पब्लिक अगेन्स्ट करप्सन संस्था) स्विस बैंकों में भारतीयों का जमा काला धन वापस लाने की बात 2014 से चल रही है और मोदी जी ने कहा था काला धन आजाए तो हर भारतीय को 15 -20 लाख रूपए मिल सकते हैं। इस संबंध में सुप्रीम कोर्ट में एक जनहित याचिका दायर हुई थी और सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर एक कमेटी का भी गठन हुआ था और कमेटी ने करीब 650 लोगो के नाम भी सरकार को उजागर किए थे जिनके पैसे स्विस बैंकों में जमा है और उनकी लिस्ट सुप्रीम कोर्ट में शील्ड कवर में पेश की गई थी और मोदी सरकार ने सुप्रीम कोर्ट से कहा था कि उनके नाम सार्वजनिक नहीं किए जाएं। बाबा रामदेव भी कहा करते थे विदेशों से काला धन मंगवाया जाएगा। आश्चर्य है कि कांग्रेस व अन्य राजनीतिक पार्टियां स्विस बैंकों में जमा काले धन के बारे में चुप है कोई सुरसुराहट भी नहीं है।

कोई पार्टी मोदी जी से नहीं कह रही कि स्विस बैंकों से काला धन मंगवाओ जबकि मोदी सरकार के पास उन लोगों के नामों की लिस्ट है जिनके रूपए स्विस बैंकों में जमा हैं। इस समय पूरा देश गंभीर आर्थिक संकट से गुजर रहा है, लोग आक्सीजन व महंगी दवाओं के अभाव में मर रहे हैं गरीब लोग भूख से मर रहे हैं, मध्यम वर्ग की हालत बहुत चिंताजनक है, महंगाई व बेरोजगारी चरम पर है काम धंधे बिलकुल नहीं है लोग आत्महत्याएं कर रहे हैं इसलिए स्विस बैंकों से काला धन वापस मंगवाया जाय जो मोदी जी के लिए आसान है क्योंकि पूरा देश मोदीजी के साथ है संसद में सारे कानून पास हो रहे हैं, सीबीआई, आई बी ईडी आदि सारी संस्थाएं मोदीजी के साथ हैं जिनके पैसे जमा हैं उनके नाम भी मोदी जी के पास हैं इन सब लोगों पर दबाव डालकर ये धन मंगवाया जा सकता है और ये आनाकानी करें तो इनपर पहला दबाव इनके नाम सार्वजनिक करके बढ़ाया जा सकता है और जिस मुस्तैदी से सीबीआई, ईडी और एनसीबी काम रही है उन काबिल अफसरों को स्विस बैंक में किस किस के खाते में काला धन जमा है की जांच करवाकर मंगवाया जाय और हाँ इस मामले में कुछ टीवी चैनलों की मदद ली जा सकती है जो इस पर डिबेट करवाएं और जो नाम सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में बताए हैं उनको सार्वजनिक किया जाय ताकि जनता भी उनको सबक सिखा देगी और मोदी जी का तो विश्व में डंका बजा हुआ है तो स्विस बैंकों से काला धन लाने में ज्यादा दिक्कत नहीं आएगी-