पुलिसकर्मियों के मानसिक स्वास्थ्य की कार्यशाला में इंग्लैंड से आये डॉ विमल शर्मा, कपिल गर्ग रहे मौजूद

750

पुलिस अकादमी में मानसिक स्वास्थ्य पर 3 दिवसीय कार्यशाला प्रारंभ

जयपुर, 11मार्च 2019।(निक सामाजिक)महानिदेशक पुलिस श्री कपिल गर्ग ने सोमवार को प्रातः राजस्थान पुलिस अकादमी परिसर में पुलिस कर्मियों के मानसिक स्वास्थ्य के संबंध में इंग्लैंड से आए विशेषज्ञ प्रो विमल शर्मा एवं उनकी टीम के सानिध्य में आयोजित किये जा रहे 3 दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम का शुभारंभ किया।
श्री गर्ग ने बताया कि राजस्थान के मूल निवासी और इंग्लैंड में लंबे समय से मानसिक स्वास्थ्य के लिए विशेषज्ञ के तौर पर अंतर्राष्ट्रीय पहचान बनाने वाले डॉ विमल शर्मा के सहयोग से पुलिस कर्मियों के मानसिक स्वास्थ्य की जांच करने के लिए यह प्रषिक्षण कार्यक्रम आयोजित किया गया है। उन्होंने प्रशिक्षण में शामिल राजस्थान पुलिस के सभी रेंज से आए रेंज पुलिस निरीक्षक एवं हेडमोहरर से उनके संपर्क में आने वाले पुलिस कर्मियों के मानसिक स्वास्थ्य के बारे में भी सतर्कता से जानकारी रखने का आग्रह किया। उन्होंने कहा कि किसी भी प्रकार का मनोविकार होने की आशंका होने पर संबंधित पुलिसकर्मी को चिकित्सकों से संपर्क करने की सलाह के साथ ही उनकी समस्याओं का समाधान करने का सार्थक प्रयास किया जाए। उन्होंने पुलिस लाइंस में सेवारत चिकित्सकों एवं चिकित्सा कर्मियों से पुलिसकर्मियों के शारीरिक स्वास्थ्य परीक्षण के साथ ही मानसिक स्वास्थ्य के प्रति भी गंभीरता बरतने का आग्रह किया।
उन्होंने कहा कि पुलिसकर्मियो के अधिक कार्य समय के साथ ही अन्य कई समस्याओं के चलते मानसिक तनाव का शिकार होने की संभावना रहती है। शारीरिक स्वास्थ्य का तो विविध प्रकार की जांच से परीक्षण कर उपचार किया जाता रहा है, लेकिन मानसिक स्वास्थ्य की दृष्टि से जांच और उपचार का कार्य भी आवश्यक है। उन्होंने कहा कि किसी भी प्रकार के मानसिक विकार का प्रारंभ में ही पता लगने पर उसका आसानी से निदान संभव है। मानसिक विकार लगातार बढ़ने पर वह गंभीर रुप भी ले सकता है ।
लंदन से आए मानसिक रोग विशेषज्ञ चिकित्सक प्रो विमल शर्मा ने बताया कि उन्होंने इंग्लैंड के ही डॉक्टर कॉपलेंड के साथ मिलकर मानसिक स्वास्थ्य का परीक्षण करने के लिए ग्लोबल मेंटल हेल्थ एसेसमेंट टूल विकसित किया है। इस टूल के तहत किसी व्यक्ति से उनकी मन की स्थिति जानने के लिए कुछ महत्वपूर्ण सवाल पूछे जाते हैं और उन्हें कंप्यूटर सॉफ्टवेयर के जरिए मानसिक स्थिति की और मनोविकारो की जानकारी प्राप्त की जा सकती है।
प्रो विमल शर्मा ने बताया कि इस टूल द्वारा सवाल जवाब से पूछे गए तथ्यों के आधार पर किसी भी व्यक्ति की 70 से 90 प्रतिषत तक मानसिक स्वास्थ्य की सही जानकारी प्राप्त होती है। प्राप्त जानकारी के आधार पर आवश्यकता पड़ने पर उन्हें मनोचिकित्सक से उपचार लेने के लिए प्रेरित किया जा सकता है ।
अतिरिक्त महानिदेशक व राजस्थान पुलिस अकादमी के निदेशक श्री हेमंत प्रियदर्शी ने इस तीन दिवसीय कार्यशाला के उद्घाटन के अवसर पर महानिदेशक पुलिस एवं कार्यशाला में आए सभी प्रतिभागियों का स्वागत किया। उन्होंने इस कार्यशाला में आकर पुलिसकर्मियों के मानसिक स्वास्थ्य के लिए प्रशिक्षण प्रदान करने के लिए डॉ विमल शर्मा एवं सुश्री सौम्या के साथ ही उनके टीम के सदस्यों को के प्रति आभार व्यक्त किया।