गहलोत सरकार ,पत्रकारों के हितों का ध्यान रखने वाली सरकार,मेडिक्लेम के बाद ठंडे बस्ते में रखी पत्रकार पेंशन योजना फिर से शुरू करने की कवायद शुरू,न्यूइण्डिया खबर के साथ कुछ वरिष्ठ पत्रकारों की मांग है कि दिवंगत पत्रकारों की पत्नियों को भी मिले सम्मान विधवा पेंशन

494

राज्य में सरकार बनते ही किसानों की कर्ज़ मॉफी के साथ ही सभी वर्गों की आकांक्षाओं पर खरा उतरने के प्रयास पहले दिन से ही शुरू किए,,,

जयपुर 7 फरवरी2019।(निक राजनीतिक) भाजपा के दम्भ व कुशासन से परेशान राजस्थान की जनता ने यशस्वी मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के हाथों सत्ता सौंप यह दर्शा दिया कि लोकतंत्र में आमजनता आज भी सर्वोपरि है ।
राज्य की कांग्रेस सरकार व सूचना व जनसम्पर्क मंत्री रघु शर्मा से newindia खबर निवेदन करता है कि दिवंगत पत्रकारों की पत्नियों को भी सम्मान विधवा पेंशन दी जाए । जिससे वो अपना जीवन यापन सम्मानपूर्वक कर सके । इस बाबत कई वरिष्ठ पत्रकारों ने भी सम्मान विधवा पेंशन की मांग को समर्थन दिया है और गहलोत सरकार पर विस्वास जताया है ।
जब पूर्ववर्ती वसुंधरा सरकार ने पत्रकारों की पेंशन पर रोक लगा दी थी,अब खबर है, वर्तमान राज्य सरकार फिर से शुरू करने की पहल कर रही है ।
अभी मेडिक्लेम पॉलिसी के फार्म भी उपलब्ध करा दिये हैं, जिसे पत्रकार डाउन लोड कर सकते है,या पिंकसिटी प्रेसक्लब पर भी उपलब्ध है ।
गहलोत व सचिन पायलट की सरकार घोषणा पत्र में किये गए सभी वायदे पूरे करने के लिए प्रयासरत है ।
Newindia खबर राज्य सरकार को शुभकामनाएं प्रेषित करती है ।