जेडीए कुछ कहता नहीं, मुख्यमंत्री सुनते नहीं 22वे दिन भी सीएमआर पहुंचे आवंटी पत्रकार

231

जयपुर 1 फरवरी 2023।(निक विशेष) पिंकसिटी प्रेस एनक्लेव, नायला पत्रकार नगर के 571 निर्दोष आवंटी परिवारों के साथ 10 साल से हो रहे अन्याय का जवाब जेडीए के पास नहीं है। अब 22 दिन से रोज मिलने की गुहार लगा रहे पत्रकारों से मुख्यमंत्री अशोक गहलोत क्यों नहीं मिल रहे, इसका जवाब सीएमआर के अधिकारियों के पास भी नहीं है। जत्थे बनाकर रोज आ रहे पत्रकारों की पीड़ा सीएमआर के अधिकारी ही सुनते हैं और जल्दी ही मिलाने का आश्वासन ही देते है।

बुधवार को भी मुख्यमंत्री से मिलने पहुंचे जत्थे के पत्रकारों को संयुक्त सचिव ललित कुमार ने बताया कि उनके ज्ञापन रोज मुख्यमंत्री जी को दे रहे हैं। जल्दी ही वे पत्रकारों से भी मिलेंगे। हालांकि पिंकसिटी प्रेस एनक्लेव, नायला के 5 पत्रकारों के जत्थे की सुनवाई के लिए सीएमआर में विशेष व्यवस्था की गई है। संयुक्त सचिव ललित कुमार को नायला के आवंटी पत्रकारों को सुनने और उनके आवंटन दस्तावेज जमा करने के लिए लगाया गया है। बीच बीच में मुख्यमंत्री निवास के विशेषाधिकारी देवाराम सैनी और मुख्यमंत्री के वरिष्ठ निजी सहायक सौभाग मल वर्मा भी आवंटी पत्रकारों की पीड़ा सुनकर मुख्यमंत्री को अवगत करा चुके हैं। लेकिन मुख्यमंत्री से मुलाकात कब कराई जाएगी। इसका जवाब तो उनके पास भी नहीं है।

    बुधवार को 18वे जत्थे में वरिष्ठ पत्रकार मनोज मेहरड़ा, महेंद्र भोमिया, जसराज मुरंडा, मनोज कुमार श्रेष्ठ और नितिन कुमार ने मुख्यमंत्री से मिलने का समय मांगा और नायला पत्रकार नगर आवंटित प्लॉट के दस्तावेज उन्हें जमा कराए।
    चलो नायला संगठन के प्रतिनिधियों ने बताया कि मुख्यमंत्री से मिलने तक पत्रकारों के जत्थे रोज सीएमआर पहुचेंगे। 10 साल से आवंटियों के साथ हो रहे अन्याय पर जेडीए कुछ कहता नहीं है। बस इतना ही कहता है कि फाइल सीएमओ में है और मुख्यमंत्री इस बारे में कुछ सुन नहीं रहे हैं। गुरुवार को महिला पत्रकारों का जत्था सीएमआर जाएगा और आवंटन दस्तावेज तथा ज्ञापन देगा।