मुझे झूठे मुकदमे में फसाने का प्रयास कर मेरी छवि धूमिल कर रहा है विकास सिरोही : रणवीर पहलवान, माननीय उच्च न्यायालय कर चुका है f.i.r. खारिज,

73

जयपुर 3 दिसंबर 2022।(निक विशेष) पूर्व विधायक मालपुरा रणवीर सिंह पहलवान ने मीडिया के सामने अपनी बात रखते हुआ कहा की मेरा पूर्व बिजनेस पार्टनर विकास सिरोही बदनीयती से मेरा कुप्रचार कर मुझे बदनाम करने पर उतारू हो गया है। अपने चैनल के माध्यम से वह मुझ पर अनर्गल आरोप लगा रहा है।

रणवीर सिंह ने मीडिया को बताया कि विवाद की शुरुआत संजय बैराठी के रुपए नहीं लौटाने पर हुआ था। संजय बैराठी विकास सिरोही से 36 करोड़ रुपए मांगता है। यह विवाद पुराना है । शहर के प्रतिष्ठित लोगों के साथ बैठकर मीटिंग में विकास सिरोही ने 31 दिसंबर 2018 तक संजय बैराठी को पैसा देना कुबूल कर लिया था।
संजय बैराठी और विकास सिरोही मेरे दोस्त थे इस वजह से मैं भी उक्त मीटिंग में उपस्थित था।
लेकिन विकास सिरोही ने तय तारीख को रुपए नहीं दिए और टालम टोल करता रहा।
संजय के दोस्त होने के नाते मैंने भी विकास को संजय के रुपए लौटाने के लिए कहा। इस पर विकास ने पैसे लौटाने की बजाय और स्वयं की कमी छुपाने के लिए 2019 में चित्रकूट थाने में मेरे खिलाफ रिपोर्ट लिखा दी और विभिन्न प्रकार के आरोप भी लगाए। जिसमे विकास ने आरोप लगाते हुए रिपोर्ट करवाई की रणवीर पहलवान से मैंने 14/ 15 साल पहले कुछ रुपए उठा रखे थे, जिसके एवज में कुछ पट्टे गिरवी रखे थे पैसे लौटाने के बावजूद रणवीर पहलवान मुझे प्लॉट वापस नहीं कर रहा, रिपोर्ट में विकास ने मुझ पर आरोप लगाए की एक कॉलोनाइजर प्राइवेट लिमिटेड कंपनी के माध्यम से रणवीर पहलवान ने चार करोड़ 10 लाख में जमीन खरीदी जिसके 4 करोड़ मैं दे चुका हूं पर रणवीर ने मेरी कंपनी वापस नहीं की । लेकिन पुलिस जांच में यह स्पष्ट हो गया कि विकास सिरोही के उक्त कंपनी में 20% शेयर है जबकि रणवीर सिंह के पास 80% शेयर है।

    ऐसे कई बेबुनियाद आरोप पुलिस रिपोर्ट में मुझ पर लगाए, लेकिन पुलिस की जांच में विकास द्वारा लगाये गए सभी आरोप प्रमाणित नहीं पाए गए।
    रणवीर सिंह ने मीडिया के सम्मुख मय दस्तावेज रखते हुए बताया की मैंने उक्त f.i.r. के विरुद्ध 482 के तहत माननीय उच्च न्यायालय में अपील की। जिसमे पुलिस द्वारा पेश संपूर्ण जांच की कॉपी संलग्न की गई। इसके बाद माननीय उच्च न्यायालय ने एफआईआर को झूठा मानते हुए खत्म कर दिया।

    अब मीडिया के माध्यम से मैं विकास सिरोही तक एक बात पहुंचाना चाहता हूं कि मेरे प्रति अपने चैनल ,सोशल मीडिया व अन्य के माध्यम से कुप्रचार करना बंद करे।
    न्यायपालिका, कानून पुलिस आदि सबके लिए समान है ।
    इन सबके बावजूद अगर आपको मुझसे कोई भी शिकायत है तो कानूनी लड़ाई लड़ो, बेबुनियाद दुष्प्रचार करना बंद करो।