सुप्रीम कोर्ट में चल रहा मामला, फिर जेडीए ने दिए नोटिस, जमीन पर चल रहे स्कूल को भी खाली करने का नोटिस,,

144

जयपुर 6 नवंबर 2022।(निक युडीएच) कोर्ट में मामला चल रहा हो तो,,, किसी भी तरह की विभागीय कार्रवाई नहीं की जाती है,लेकिन, जेडीए ने सुप्रीम कोर्ट में मामला होने के बावजूद जमीन को खाली करने के नोटिस जारी कर दिए है,, नोटिस के बाद आज स्थानीय लोग जमा हुए,,,और जेडीए कार्रवा पर नाराजगी जाहिर करते हुए ,,विरोध जाहिर किया है,, मामला जयपुर शहर के विधाधर नगर वीकेआई का है,जहां पर लगभग 11 बीघा जमीन को लेकर विवाद पिछले कई वर्षों से चल रहा है,मामला निचली अदालत के बाद सुप्रीम कोर्ट तक पहुंचा है,, सुप्रीमकोर्ट में हाल ही में भी बहस हुई लेकिन किसी तरह का कोई निर्णय अभी तक नहीं दिया गया। लेकिन, जेडीए ने पहले 20 अक्टूबर और उसके बाद तीन दिन पहले फिर से नोटिस थमा दिए,,, जिसमें 11 बीघा जमीन पर बने सभी संस्थानों को खाली करने के नोटिस दिए है,, साथ ही ऐसा नहीं करने पर कार्रवाई की बात कही है,,,

जमीन के मालिक छोटू राम मीणा और छोटू राम मीणा की पत्नी राजबाला मीणा ने जेडीए के नोटिस पर विरोध जाहिर किया,,इस दौरान स्थानीय लोगो ने भी परिवार का साथ दिया है,,, उधर, राजबाला मीणा ने बताया कि,,जमीन उनकी पुस्तैनी है,, उन्होंने किसी तरह का कब्जा नहीं किया है,,,और ना ही वो भूमाफिया है,, उनका परिवार न्याय के लिए सुप्रीम अदालत में लड़ाई लड़ रहा है,, राजबाला मीणा ने आरोप लगाया कि,,,उनकी जमीन बेशकीमती है,,ऐसे में हड़पने की कोशिश हो रही है,,

    जमीन पर स्कूल, मार्बल व्यवसायी सहित कई संस्थान
    वीकेआई के जोन 2 में बीड़ पीपाड़ मल्होत्रा नगर में ये जमीन है,,, मालिकाना हक को लेकर जेडीए और कब्जेधारियों के बीच कोर्ट में मामला चल रहा है,, जमीन पर मार्बल व्यापार, गोदाम,ऑफिस और स्कूल भी बना है,,, उधर, स्कूल संचालक गिरधर माहेश्वरी नोटिस के बाद परेशान है,,, साथ ही विभागीय स्तर पर गुहार लगा रहे है,,, गिरधर माहेश्वरी का कहना है कि,,,उनको जमीन खाली करने को नोटिस दिया गया है,,, लेकिन, उनकी स्कूल में दो सौ बच्चे पढते है,,जो कि परेशान हो सकते है,, स्कूल का भवन बदलने के लिए उनको पहले विभागीय स्तर पर परमिशन लेनी होगी,,, उसके बाद वो जगह बदल सकते है,,, तब तक के लिए गिरधर माहेश्वरी ने जेडीए से राहत की मांग उठाई है ।