संस्कारवान छात्रों से ही राष्ट्र निर्माण संभव है– जस्टिस भंडारी,

87

जयपुर 12 मार्च 2022।(निक शिक्षाः) मानसरोवर के वरूण पथ स्थित दीपशिखा कला संस्थान सभागार में शनिवार को यूनिवर्सिटी ऑफ टेक्नालॉजी का दीक्षान्त समारोह आयोजित किया गया। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि मद्रास हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश एम.एन. भंडारी ने कहा कि संस्कारवान छात्रों से ही राष्ट्र का निर्माण किया जा सकता है। साथ ही स्टूडेंट्स एवं देश के भविष्य को संवारने के लिए विश्वविद्यालय अपना श्रेष्ठतम योगदान देते है।

भंडारी ने अपेक्षा जताते हुए कहा कि इस विश्वविद्यालय के छात्र-छात्राएं अपनी मेहनत सेे देश, समाज व अपने परिवार का नाम रोशन करेंगे। कार्यक्रम में विशिष्ट अतिथि जलदाय मंत्री डॉ. महेश जोशी ने कहा कि आज जिन छात्रों ने उपाधियाँ ग्रहण की है, उन्हें सलाह दी जाती है कि जीवनभर छात्र बनकर सीखते रहे। रामलाल जाट ने कहा कि प्रान्त के राजस्व पर भी सदैव ध्यान केन्द्रित करना चाहिए, जिससे प्रान्त का विकास अनवरत जारी रहे। जल संसाधन मंत्री महेन्द्रजीत सिंह मालवीय ने कहा कि राज्य के विद्यार्थियों को जल उपलब्धता एवं उसके सदुपयोग पर पूरा ध्यान देना चाहिए, जिससे राज्य की जल आपूर्ति सुचारू रहे। खेल मंत्री अशोक चांदना ने विद्यार्थियों को विश्वविद्यालय में बड़े-बड़े खेल मैदान उपलब्ध कराने और यहां चल रहे कौशल विकास कार्यक्रम पर प्रसन्नता जाहिर की। विश्व हिंदी साहित्य परिषद् के कुलाधिपति डॉ. एच.सी. गणेशिया ने कहा कि आज के प्रतिस्पर्धा और तकनीक के युग में विद्यार्थी को कड़ी मेहनत कर अपने भविष्य को सुनहरा बनाने के लिए तत्पर रहना चाहिए। आरटीडीसी के चैयरमेन धर्मेन्द्र राठौड़ ने कहा कि राजस्थान में सबसे अधिक रोजगार टूरिज्म में है इसलिए हर विद्यार्थी को प्रदेश के स्मारक और गौरव गाथा से परिचित होना चाहिए। प्रदेश की इकोनॉमी की बैक-बॉन टूरिज्म है। ऐसे में विश्वविद्यालय को टूरिज्म आधारित पाठ्यक्रम चलाने चाहिए और पर्यटन विभाग ऐसे कोर्स के लिए पूरी मदद करेगा। चैम्बर ऑफ कॉमर्स के मानद सचिव डॉ. के एल जैन ने कहा जॉब प्रोवाइडर बनने के लिए एन्टरप्रिन्योरशिप डवलप करनी होगी तभी पी.एम. मोदी का आत्मनिर्भर भारत का सपना साकार होगा। अरबन कॉपरेटिंव बैंक चैयरमेन डॉ. के.के. टाक ने कहा कि विश्वविद्यालय के विद्यार्थी सहकार्यता तंत्र से जुड़े। दीक्षान्त समारोह में विभिन्न संकाय के लगभग 300 छात्र-छात्राओं को डिग्रीयां दी गई। इस अवसर पर डिग्री पाकर छात्रों के चेहरे खिल उठे। इस अवसर पर विश्वविद्यालय के चैयरमेन प्रेम सुराणा ने सभी छात्रों को भावी जीवन में कामयाबी की शुभकामनाएं देते हुए कहा कि यूनिवर्सिटी ऑफ टैक्नोलॉजी गुणवत्तायुक्त शिक्षा देने के लिए वचनबद्ध है। वाइस चैयरमेन डॉ. अंशु सुराणा ने कहा कि हमारा प्रयास है कि यहां के छात्रों को ग्लोबल एक्सपोजर मिले,

    इसके लिए विश्व के कई नामी वैश्विक संस्थानों से करार किया गया है। विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ. वी.एन. प्रधान ने कहा कि यहां विद्यार्थियों की छुपी हुई योग्यताओं को निखारते हुए उन्हें योग्य व संस्कारवान नागरिक बनाने का कार्य किया जाता है। समारोह में विभिन्न विषयों में दस छात्रों को डॉक्टरेट की उपाधि से नवाजा गया। मद्रास हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस एम.एन. भंडारी को डि.लिट की उपाधि से नवाजा गया एवं प्रतिभावान छात्रों को गोल्ड मेडल देकर सम्मानित किया गया। समारोह में जय नारायण व्यास सहित अन्य विश्वविद्यालयों के पूर्व कुलपति व शिक्षाविद् प्रो. पी.सी. त्रिवेदी सहित कई नामी हस्तियां मौजूद रहीं।