चुनावी जुमलों का फुस्स बम – कीर्ति पाठक

138

अजमेर/जयपुर 24 फरवरी 2022।(निक राजनीति) आम आदमी पार्टी महिला शक्ति प्रदेश अध्यक्ष कीर्ति पाठक ने राजस्थान प्रदेश के मुख्यमंत्री द्वारा प्रस्तुत बजट पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि अगले वर्ष होने वाले चुनावों को साधने की कोशिश मात्र है ये बजट और जहाँ पिछले बजट की घोषणाएँ अधूरी हैं वहां सरकार के नए झुनझुने बजाने को बेताब है |
बिजली , रोज़गार , स्वास्थ्य , महिलाओ , उद्योग , किसानो के लिए इस बजट में क्या है पर कीर्ति पाठक ने कहा कि –
बिजली –
प्रति 100 यूनिट बिजली के उपयोग पर 50 यूनिट बिजली फ्री की घोषणा राजस्थान की जनता के मुंह पर तमाचा है , जहाँ दिल्ली की केजरीवाल सरकार बिजली खरीद कर अपने नागरिकों को 200 यूनिट बिजली प्रतिमाह फ्री और अगले 200 यूनिट पर 50% सब्सिडी दे रही है वहीँ बिजली उत्पादक राज्य राजस्थान अपने नागरिकों को भीख देने सी बात कर रहा है जो कि व्यवहारिक नहीं है क्यूंकि आज के समय में कोई भी परिवार ऐसा नहीं है जिस की प्रति माह बिजली का उपभोग 100 यूनिट अथवा उस से कम हो |

रोज़गार –
बीस साल तक रोज़गार के झुनझुने को बजाने के लिए बेताब अशोक गहलोत जी वर्तमान में प्रदेश के 20.67 लाख बेरोज़गारों को प्रति वर्ष एक लाख नए रोज़गार का झुनझुनी वादा किए हैं|
मनरेगा और इंदिरा गांधी शहरी रोज़गार योजना से भ्रष्टाचार और अकर्मण्यता को बढ़ावा मिलेगा।

कीर्ति पाठक महिला शक्ति प्रदेश अध्यक्ष राजस्थान

स्वास्थ्य –
चिरंजीवी स्वास्थ्य बीमा योजना नए बजट में धरातल पर कैसे आएगी और आम जनता को लाभ पहुँचाएगी का कोई रोड्मैप नहीं , सिर्फ़ जुमला मात्र और प्राइवेट अस्पतालों को आम जनता को लूटने की छूट |

    महिला , घर परिवार –
    लड़की हूँ , लड़ सकती हूँ का नारा देकर अब महिलाओं को घर बैठाने का जतन – ( work from home योजना के तहत 20 हज़ार महिलाओं को घर बैठे रोज़गार का वादा ) ये वादा कब पूरा होगा इस पर प्रश्न चिन्ह , कोई रोडमैप नहीं |
    महंगाई से प्रदेश की जनता को राहत देने का बजट में कोई प्रावधान नहीं |
    महिलाओं को मोबाइल और नेट का झुनझुना ,
    भूखे पेट नेट पर रोटी की फ़ोटो देखो और परिजनों को दिखाओ
    किसान –
    किसानों की फसल के लिए एमएसपी और ऋण माफ़ी की कोई घोषणा नहीं साथ ही किसानों को 3 लाख बिजली कनेक्शन की घोषणा एक छलावा |
    दो साल में ढाई लाख कनेक्शन देने वाली सरकार 80 लाख किसानों को कब तक बिजली कनेक्शन देगी ?
    उद्योग / व्यापार –
    व्यापारी वर्ग को इस बजट में नज़रअंदाज़ किया गया है |
    उद्योग को बढ़ावा देने की बात करने वाली राजस्थान सरकार सब से महंगी औद्योगिक बिजली के चलते पहले ही उद्योगों को दूसरे प्रदेशों का रास्ता दिखा चुकी है |
    अगर धरातल पर मुख्यमंत्री जी ने कुछ दिया है तो वो विधायकों को आई फ़ोन |
    सामान्य जनता टकटकी लगाए करे इंतज़ार पिछले बजट से अभी तक के बजट की योजनाओं को लागू होने