परिवहन विभाग, यातायात पुलिस और पुलिस महकमा, क्या तीनों की सांठगांठ है या ये अपने कर्तव्यों से विमुखता का परिचय दे रहे हैं ,, घाट गेट बस स्टैंड से अवैध मैजिक, बसों के संचालन का मामला,, कोरोना की मार ऊपर से अवैध गाड़ियाँ सड़कों पर धड़ल्ले से दौड रहीं हैं बिना रोक टोक, किसकी शह पर,, सीरीज-2

375

31 जनवरी 3 बजे खिंची गयी घाट गेट बस स्टैंड पर खडी मैजिको की तस्वीर,

जयपुर 31 जनवरी 2022 ।(निक क्राइम) आपको बता दें न्यू इंडिया खबर ने अभी कुछ दिनों पहले घाट गेट बस स्टैंड से अवैध मैजिकौ व बसों के संचालन की खबर चलाई थी। उसमें आरटीओ राजेश वर्मा का वर्जन भी था जिसमें उन्होंने कार्यवाही की बात की थी । लेकिन अभी तक इसमें कोई प्रगति नजर नहीं आ रही है।

यह भी आपको स्पष्ट करते हैं की घाट गेट बस स्टैंड से अंकुर सिनेमा तक की जमीन वक़्फ बोर्ड की है । इसमें संचालित अवैध गतिविधियों के बारे में वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष खानू खां बुधवाली को भी जानकारी दी गई और कार्रवाई करने के लिए कहा गया था । गौर करने की बात यह है कि घाट गेट बस स्टैंड से ही नहीं शहर में कई जगह से अवैध बसों व मैजिकों का संचालन हो रहा है पर ध्यान देने की बात यह है इस दौरान ट्रेफिक प्वाइंट भी आते हैं, पुलिस थाने की नाकाबंदी भी होती है, क्या किसी ने भी परमिट चेक करने की अपनी जिम्मेदारी नहीं समझी ? क्या सिर्फ दुपहिया और चौपहिया वाहनों के चालान में ही उनकी रूचि दिखाई देती है । इसी तरह परिवहन विभाग शहर के बीचो बीच चल रही अवैध गाड़ियों को रोकने के लिए समय-समय पर कार्यवाही क्यों नहीं करता ? क्या इस बात से अंदाजा लगाया जा सकता है कि क्या इन सब की मिली भगत है निजी अवैध संचालकों के साथ ? क्यों नहीं अब तक कोई ठोस कार्रवाई की गई है ? इसी तरह रोडवेज बसों का भी हाल, बेहाल है इसीलिए राजस्थान राज्य रोडवेज भी घाटे से अभी तक नहीं उबर पा रहा है । न्यू इंडिया खबर उम्मीद करता है परिवहन मंत्री से यातायात पुलिस उपायुक्त श्वेता धनकड़ व पुलिस के सभी चारों जिलों के उपायुक्तों से और आरटीओ राजेश वर्मा से कि अपनी जिम्मेदारी को समझते हुए तुरंत अवैध मैजिको व बसों के संचालन पर पाबंदी लगाई जाए ।

राजेश वर्मा,आरटीओ