फुटवियर व रेडीमेड गारमेंट पर G S T 5% से बड़ाकर 12% करने का विरोध, प्रभावित संगठन केंद्र सरकार को अपना पक्ष रखे,,

131

जयपुर 28 नवंबर 2021।(निक वाणिज्य) फुटवियर व्होलसेलर विकास समिति ने प्रधानमंत्री , गृहमंत्री , वित्तमंत्री को उक्त पत्र मेल द्वारा 25,11,2021 को प्रेषित किया व भारत के प्रभावित संगठनों से अपील करती है की अपना पक्ष केंद्र सरकार तक पहुंचाए।
निवेदन है की जबसे आपके द्वारा फुटवियर व रेडीमेड पर रु 1000 तक G S T 5% लगा कर हमे व भारत की गरीब जनता को राहत दी उसके लिए हम आपको धन्यवाद देते है।
रु 1000 तक के फुटवियर व रेडीमेड पर 5% G S T तर्क संगत है व व्यापारी बड़ी ईमानदारी से अपना व्यापार कर रहा है।
तर्क संगत G S T होने से स्वतः ही राजस्व में बड़ोतरी होती है और हो रही है G S T कलेक्शन बड़ रहा है।

G S T की दर 5% से बड़ाकर 12% करने की केंद्र सरकार की अधिसूचना का पूरे देश में व्यापारियों कारखानेदारो द्वारा विरोध हो रहा है बिना सोचे समझे सरकार द्वारा उठाया गया यह प्रतिघाती कदम होगा।
आज 20% से 30% तक बढ़ती मंहगाई के समय केंद्र सरकार द्वारा 5% G S T को बदाकर 12% करना गरीब जनता के साथ घोर अन्याय है।
साथ ही छोटे मझोले व्यापार व्यवसाई ,कारखानेदार व गरीब जनता पर केंद्र सरकार 12% G S T का बोझ लादकर मेक इन इंडिया कार्यक्रम को खत्म कर रही है ,जनता का जीना दूभर हो जाएगा । 12%G S T करने से फुटवियर व रेडीमेड से समंधित सभी वर्ग विशेषकर कारखाने दार जो कच्चे माल में बेतहाशा वृद्धि की मार से अस्तित्व की लड़ाई लड़ रहा है,व्यापारी मजदूर व संबंधित व्यक्ति आंदोलन करने के लिए बाध्य होगा ।

    अतः हमारी सरकार से विनम्र प्रार्थना है कि उक्त निर्णय (अधिसूचना ) को वापस ले व गरीबों की सरकार कहलाने वाली बात को चरितार्थ करे । समस्त भारत के प्रभावित संगठन अपना पक्ष केंद्र सरकार तक पहुंचाए ताकि केंद्र सरकार उक्त निर्णय पर विचार कर 12% की अधिसूचना वापिस ले।