खंडेलवाल वैश्य गर्ल्स इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी वैशाली नगर की राष्ट्रीय सेवा योजना इकाई एवं पुलिस उपायुक्तालय ,राजस्थान सरकार, के संयुक्त तत्वाधान में तीन दिवसीय आत्मरक्षा प्रशिक्षण शिविर 2020 का आयोजन सुनीता मीना डी सी पी (नोडल अधिकारी ,निर्भया टीम) केे नेतृत्व मे किया गया,,

32

जयपुर 22अक्टूबर 2020।(निक सामाजिक) इस शिविर का उद्देश्य महिलाओं को आत्मरक्षा हेतु उपलब्ध सरकारी व्यवस्थाओं से परिचित करवाना एवं उन्हें आत्मरक्षा हेतु सक्षम बनाना है। इस शिविर में महाविद्यालय एवं अन्य शैक्षणिक संस्थाओं से लगभग 300 छात्राओं ने प्रशिक्षण लिया ।
शिविर के तीसरे दिन के समापन समारोह में एसकेवीईटी के अध्यक्ष एस. एल. तांबी ,महामंत्री एम.एल खंडेलवाल ,आज की मुख्य वक्ता एडिशनल डीसीपी सुनीता मीना,महाविद्यालय प्राचार्या डॉ अंजु गुप्ता, समस्त व्याख्याता गण एवं लगभग 300 छात्राओं ने लाइव वेबीनार को ज्वाइन किया ।
महाविद्यालय प्राचार्य अंजू गुप्ता ने उपस्थित सभी महानुभावों का स्वागत किया।
एसकेवीईटी के महामंत्री एम.एल खंडेलवाल ने अपने उद्बोधन में कार्यक्रम की मुख्य वक्ता डीएसपी सुनीता मीना को आत्मरक्षा तथा आत्मविश्वास को बनाए रखने के लिए छात्राओं प्रेरित करने हेतु आमंत्रित किया ।

डीसीपी सुनीता मीना ने छात्राओं को संबोधित करते हुए कहा कि कोई भी छात्रा कम नहीं होती है बस आवश्यकता हमारे भीतर छिपी शक्ति को जगाने की है । छात्राओं को प्रोत्साहित करते हुए उन्होंने कहा कि आज हमें एक प्रण लेना होगा हमें स्वयं की रक्षा के साथ साथ औरों की भी रक्षा करनी होगी। आपने महिला सुरक्षा हेतु पुलिस आयुक्तालय द्वारा जारी हेल्पलाइन नंबर 100, महिला गरिमा हेल्पलाइन नंबर 1090, 112, अपराजिता सेंटर आदि के बारे में विस्तृत जानकारी दी। साथ ही साथ आपने यह भी बताया कि महिलाओं को थाने में आने की आवश्यकता नहीं है वह घर से ही अपनी शिकायत दर्ज कर सकती है। पुलिस सदैव महिलाओं के साथ है यदि उनके साथ कहीं पर भी किसी भी प्रकार का दुर्व्यवहार होता है तो वह तुरंत उपरोक्त हेल्पलाइन नंबरों पर सूचित कर तुरंत सहायता प्राप्त कर सकती हैं।
महाविद्यालय की छात्राओं ने भी इन 3 दिनों में जो भी गतिविधियां या टेक्निक महिला पुलिस के द्वारा सीखी उनका उपयोग कैसे कर सकते हैं का प्रस्तुतीकरण भी दिया ।
कार्यक्रम के अंत में महाविद्यालय के व्याख्याता नीरज गुप्ता द्वारा उपस्थित अतिथि गणों का एवं डीसीपी सुनीता मीना का आभार व्यक्त किया गया तथा साथ ही कहा कि भविष्य में भी इस तरह की महत्वपूर्ण जानकारियां हमें डीसीपी सुनीता मीना से प्राप्त होती रहे इसी कामना के साथ हम आपका तहे दिल से धन्यवाद करते हैं।
शिविर में उपस्थित सभी छात्राओं को ऑनलाइन आत्मा रक्षा प्रशिक्षण प्रमाण पत्र प्रेषित किया गया।