अति. पुलिस उपायुक्त सुनीता मीना ने वेबिनार के जरिए दिया जागरूकता का संदेश,,

1903

जयपुर 13 जून 2020।(निक विशेष) पुलिस कमिशनरेट जयपुर की निर्भया स्कवाड टीम की नोडल अधिकारी व अतिरिक्त पुलिस उपायुक्त सुनीता मीना वेबिनार के जरिए स्कूली बच्चो, कॉलेज छात्राओ व महिलाओ के ग्रुप से रुबरु हुई। इसमे उन्होने राजश्री सी.हा सैकेंडरी स्कूल शास्त्रीनगर, टैगोर पब्लिक स्कूल शास्त्री नगर, खंडेलवाल कॉलेज के 10,000 छात्राओ व पिंकसिटी क़्युवीन ग्रुप व हुनर ग्रुप की 15,000 महिलाओ को महिला सुरक्षा, साईबर सुरक्षा व जागरूकता के बारे मे जानकारी दी।
इस दौरान उन्होने छात्राओ को आत्मनिर्भर बनने की सीख दी और कहा कि महिलाओ को कभी भी लेने वाले की भूमिका में नहीं रहना चाहिए, चाहे देने वाला पति या बेटा ही क्यो ना हो। अब महिलाओं को आत्मनिर्भर होकर देने वाले की भूमिका मे रहना चाहिए ।
उन्होंने कहा कि महिलाओ को विषम परिस्थितियो में पेनिक होने की आवश्यकता नहीं है महिला पुलिस आपकी सुरक्षा के लिये सदैव आपके साथ है। बेविनार के दौरान छात्राओं द्वारा पूछे गए प्रश्न के प्रत्युत्तर में अतिरिक्त पुलिस उपायुक्त ने कोविड-19 जैसी विपरीत परिस्थितियों में जयपुर पुलिस व निर्भया स्क्वाड टीम के द्वारा समाजिक सरोकार की दिशा मे किए गए कार्यों के बारे मे छात्राओं को अवगत कराते हुए कहा कि हमारी टीम ने जनता की सुरक्षा के लिये पूरा सहयोग किया।कर्फ्यू क्षेत्र मे करीब 4000 गर्भवती महिलाओं से डोर टू डोर सम्पर्क कर उनकी समस्याए जानी और उन्हे सुरक्षित अस्पताल पहुंचाने व समय पर डिलीवरी करवाने मे हर सम्भव मदद की।नवजात बच्चो की माताओ के लिए निर्भया स्क्वाड टीम के द्वारा मदर्स ड़े सेलेब्रेट किया गया।जिसके लिये गर्भवती महिलाओ व नवजात बच्चो माताओ ने निर्भया को दिल से दुआए, प्यार व सम्मान दिया । डीसीपी सुनीता मीना ने अपने ऊर्जावान उद्बोधन में अभिभावकों को भी संबोधित करते हुए कहा कि सभी को बच्चों के साथ क्वालिटी टाइम बिताना चाहिए ताकि बच्चों को अच्छा एवं जिम्मेदार नागरिक बना सके। साथ ही उन्होने स्कूली बच्चो व उनके अभिभावको को साइबर सुरक्षा के बारे मे भी जानकारी दी। उन्होने बताया कि लोकडाऊन के चलते स्कूली बच्चे ओनलाइंन गेम्स, विडियो कॉलिंग, ऑनलाइन स्टडीज, गूगल सर्च मे बिजी रहते है ऐसे मे उन्हे फर्जी वेवसाइट व साईबर सुरक्षा के बारे मे सावधान व सतर्क रहना जरुरी है।

आपकी 40% सूचनाये साईबर लुटेरो के पास हमेशा रहती है, वे बच्चो व महिलाओ को बहला- फुसलाकर, लालची गेम जोन के लिंक के जरिए 60% सूचनाए व OTP आसानी से मालुम कर आपके खाते से पैसे निकाल सकते है। इसलिए स्कूली बच्चो को फर्जी व लालची लिंक व वेवसाइट से सतर्क रहना चाहिये। अभिभावको को ध्यान रखना चाहिये कि बच्चे ऑनलाइन किससे चेटींग कर रहे है कौनसी वेवसाइट सर्च कर रहे है, किसी को OTP नम्बर तो नही बता रहे है। अभिभावको को सजग रहना चाहिये। वेबिनार मे
महिलाओ, छात्राओं व अभिभावको ने बड़े उत्साह के साथ भाग लिया व इस वेबीनार को ज्ञानवर्धक और ऊर्जावान बनाया।