35 की चुलबुली मिताली,56 के रोनित का इश्क, # गुस्ताख़ इश्क़#

842

ऑडियो बुक लिखना एक बड़ा चैलेंज : इरा टाक
एक शाम ‘गुस्ताख इश्क’ के नाम में ऑडियो बुक पर हुई चर्चा

जयपुर 1 जून 2019।(निक सांस्कृतिक) अपनी ऑडियो बुक ‘गुस्ताख इश्क’ पर तसनीम खान से चर्चा करते हुए युवा लेखिका एवं फिल्मकार इरा टाक ने कहा कि ऑडियो बुक लिखना एक बड़ा चैलेंज है।
इसमें शब्दों से ही सब कहना, सुनना और दिखाना होता है। इस किताब को आंखें बंद कर के पढ़ा सुना जा सकता है। अवसर था देश की अग्रणी साहित्यिक संस्था कलमकार मंच और स्वीडिश ऑडियो कंपनी स्टोरीटेल की ओर से पिंकसिटी प्रेस क्लब स्थित मीडिया सेन्टर में ‘‘एक शाम ‘गुस्ताख इश्क’ के नाम’’ से आयोजित कार्यक्रम का, इस अवसर पर बड़ी संख्या में साहित्यप्रेमी मौजूद थे।
लेखिका इरा टाक ने चर्चा के दौरान सवालों का जवाब देते हुए अपनी ऑडियो बुक ‘गुस्ताख इश्क’ के पात्रों और कहानी के बारे में बताया कि यह उपन्यास 35 साल की मिताली बैनर्जी और 56 साल के रोनित पटेल की अनोखी प्रेम कहानी है।
मिताली और रोनित का इश्क अलग तरीके का इश्क है। कई किरदार हैं जो उनके साथ हैं और कई उनके खिलाफ है। उम्र, कद काठी, पैसा हैसियत कई मापदंड है जो समाज में रिश्ते को मान्यता देते हैं। ऐसे में मिताली और रोनित को अपने घरों में विरोध का सामना करना पड़ा, पर वो अपने रिश्ते को नाम देने में कामयाब होते हैं। जब तक जुनून न हो आशिकी क्या? टुकड़ों में तो आशिक बहुत मिलते हैं। उन्होंने कहा कि दस एपिसोड की इस ऑडियो बुक को एक घंटे कोई सुने और फिर अगले एपिसोड में क्या होगा ये जानने को बैचैन हो जाए और फिर अगर श्रोता के पास वक्त हो तो एक बार में ही पूरे दस घंटे की किताब सुन ले, इसलिए लिए कहानी का कसा हुआ, रोचक होना बहुत जरूरी है।
इससे पहले कलमकार मंच के राष्ट्रीय संयोजक निशांत मिश्रा ने कलमकार मंच की गतिविधियों और आगामी प्रकाशन की जानकारी देते हुए बताया कि संस्था राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय संस्थाओं की सहभागिता से इस तरह के आयोजन देशभर में करेगी, जिससे हिन्दी के लेखकों को एक अलग पहचान और सम्मान मिल सके। वरिष्ठ पत्रकार एवं साहित्यकार ईशमधु तलवार ने अपने उद्घाटन उद्बोधन में कहा कि स्टोरीटेल एक तरह से हमारी समृद्ध वाचिक परंपरा का आधुनिक रूप है। वाचिक परंपरा को हम किसी दस्तावेज की तरह सहेजकर नहीं रख पाए, लेकिन अब आवाज की नई तकनीक ने इसे संभव बना दिया है। बहुमुखी प्रतिभा की धनी इरा टाक ने हर नई तकनीक से मुठभेड़ की है और गुस्ताख इश्क उनका नया रचनात्मक करिश्मा है।
स्टोरीटेल पर उपलब्ध करीब अस्सी हजार शब्दों से रचे गये इस उपन्यास (ऑडियो बुक) ‘गुस्ताख इश्क’ को आवाज़ दी है बिग बॉस फेम विजय विक्रम सिंह और नेहा गार्गवा ने। ये ऑडियो बुक युवाओं में बहुत लोकप्रिय हो रही है। इरा टाक ने इससे पहले स्टोरीटेल के लिए एक और कहानी ‘पटरी पर इश्क’ भी लिखी थी, जो बहुत पसंद की गई। अभी वो स्टोरीटेल के लिए एक थ्रिलर लिख रही हैं। साथ ही अभी इरा बॉलीवुड में भी एक फिल्म की स्क्रिप्ट लिख रही हैं।
एक सवाल के जवाब में इरा टाक ने कहा कि ऑडियो बुक सुनने को लेकर संशय में थी कि इसमें रुचि कैसे होगी? लेकिन एक बार सुनने के बाद हर सीन सामने था, जैसे किताब पढ़ते समय होता है। उन्होंने कहा कि इसका हर एपिसोड एक रहस्य पर खत्म होता है और शुरू नए मोड़ से। मिडिल क्लास समाज में औरतों से उम्मीद की जाती है कि वे किसी भी रिश्ते में रहे तो आत्मसम्मान को भूल ही जाएं, और इसीलिए इस कहानी के मुख्य किरदार मिताली के आत्मसम्मान ने यहां बांधे रखा।
जब उनसे ऑडियो बुक के पसंदीदा किरदार के बारे में तसनीम खान ने सवाल किया तो उन्होंने कहा कि— एक सीन याद है जिसमें विकास मिताली से प्यार उसके चुलबुलेपन और जिंदादिली को देख करता है, पर शादी के बाद उसे यही सब नाटकीय लगता है। मैं इसे अमृता प्रीतम की बात से जोडक़र देखती हूं कि वो कहती है कि पुरुषों को बुद्धीमान औरतों की संगत तो चाहिए पर जीवनसाथी के तौर पर नहीं, तो क्या आज भी स्थितियां वही हैं?
कार्यक्रम का संचालन अवीन्द्र मान ने किया और अंत में निशांत मिश्रा ने आगुन्तकों का आभार व्यक्त किया।