बड़ी बहन ने कराई है FIR,अपने ही पति (जो भट्टा बस्ती जयपुर में कांस्टेबल नियुक्त है) व ससुराल वालों के खिलाफ, अन्य धाराओं के साथ 307,में भी दर्ज हुआ है मुकदमा,, पर पुलिस की अब तक तफ्तीश , इसके उलट बयां कर रही है, FIR के उलट एक्सीडेंट का मामला बता रही है पुलिस,छोटी बहन ICU में जिंदगी और मौत के बीच झूल रही है,लेकिन पुलिस अभी तक मेडिकल रिपोर्ट हासिल नहीं कर पाई है 48 घण्टों के ऊपर, पूरी खबर पढ़े,

1066

oजयपुर 26 मई2019।(निक क्राइम विशेष) क्या दहेज का दंश आज भी हमारे समाज में अपनी जहरीली जड़ें फैलाने से बाज़ नहीँ आ रहा ? जिम्मेदार कौन ?।

जिसका जीता जागता उदाहरण बड़ी बहन की वो रिपोर्ट है, जिसमें उसने ससुराल वालों के खिलाफ दहेज मांगने के साथ  मानसिक व शारीरिक प्रताड़ना का सीधा सीधा मुकदमा शास्त्रीनगर थाने में  दर्ज कराया है।

इस बाबत जानकारी मिलने के बाद जब newindia खबर ,छोटी बहन जो अभी sms ट्रोमा वार्ड में जिंदगी से जंग लड़ रही है ,उससे व उसके परिजनों से बात करने पहुंचा  और उनके परिवार अनुसार जो बात सामने आई उससे स्पष्ट हुआ की ,मामा संग  बड़ी बहन के साथ ,लड़की की मां और अन्य ने एक स्वर में कहा की, 2 नों भाइयों से हमने अपनी 2 नों बेटियों की शादी की ,अपनी हैसियत से ज्यादा नकद व सामान दिया,

माँ ने आगे कहा की शादी के  2महीने  से ही  दहेज की मांग के साथ, मारपीट व अन्य तरह से 2नों को तंग किया जा रहा है, बड़ी बहन ने कहा कि  घटना की सूचना मुझे फोन से मिली की , जब मैंने अनेक बार फोन किया तो ससुराल की तरफ से msg मिला कि उसका एक्सीडेंट हुआ है, मैं यकीन से कह सकती हूँ, जिस तरह की सर पर  चोट है , वो एक्सीडेंट नहीँ हो सकता,,

पर जैसा शास्त्रीनगर थाने के अनुसन्धान अधिकारी  रामेश्वर लाल व SHO अमर सिंह के अनुसार बताया जा चुका है कि पुलिस अनुसन्धान, एक्सीडेंट के साक्ष्य, अनुसन्धान ,गवाह सहित एकत्र करने में सफलता पा चुकी है।

पर जब newindia खबर ने मेडिकल जूरिस्ट की रिपोर्ट के बारे में पूछा तो सकपकाते हुए उन्होंने कहा कि इस रिपोर्ट में थोड़ी देरी हो रही है।

सवाल कई हैं, जवाब उनके अनुसार है, पर समाज को समझना होगा, समाजिक बन्धन बनाने से बनते हैं, टूटने के लिए बहाने की आवश्यकता नहीं ।

Newindia ख़बर की नज़र बनी रहेगी,,,,