आज की शख्शियत:डॉ आलोक कौशिक,,योग और प्राकृतिक चिकित्सा में आज एक पहचान रखते हैं ,

970

जयपुर 7 मई।2019।(निक विशेष)आज की हमारी शख्शियत हैं,डॉ आलोक कौशिक,यह सीकर की नही अपितु राज्य और राष्ट्र स्तर पर योग एवं प्राकृतिक चिकित्सा के क्षेत्र में अपने सशक्त हस्ताक्षर के रूप में उभर,हम सबके सामने हैं ।
आलोक कौशिक ने योग एवं प्राकृतिक चिकित्सा मे डिप्लोमा किया और उसके बाद इन्होंने इस क्षॆत्र में लोगो की आवश्यकताओ को देखते हुए लोगो को जागरूक करने का कार्य करने का निर्णय लिया तब उन्होने इन्टरनेशनल नेचुरोपथी ऑरगनाईजेशन की सद्स्यता ली ये संस्था आयुष मंत्रालय के साथ विभिन्न आयोजन मे सहभागिता निभाती है पूरे विश्व मे योग एवं प्राकृतिक चिकित्सा एवं अन्य स्वदेशी पद्धतियों को बढावा देने और लोगो मे जागरूकता के लिये विश्व स्तर पर कार्य करती है |
कौशिक संकल्प सेवा संस्थान के अध्यक्ष के रुप मे योग एवं प्राकृतिक चिकित्सा के साथ महिला बाल विकास, पर्यावरण, एवं अन्य जागरूकता के कार्य करते है पिछले वर्ष कौशिक ने आई. एन. ओ के बैनर तले अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन में भाग लिया और विश्व के विभिन्न देशों से आये हुए लोगों से उनके अनुभव लिए |कौशिक को इस क्षॆत्र मे उनके योगदान के लिए आ.एन. ओ के कार्यक्रम मे
राष्ट्रीय स्तर पर गोल्ड मैडल एवं प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया गया | प्राकृतिक चिकित्सा पर केरल मे राष्ट्र स्तर सेमिनार मे भाग लिया | तीसरे अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर आयुर्वेद विभाग एवं प्रशासन के साथ कार्य किया और सर्व श्रेस्ठ पुरस्कार प्राप्त किया |
चतुर्थ अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर आई. एन. ओ एवं आयुष मंत्रालय के द्वारा इन्हे सीकर जिले का कोर्डिनेटर नियुक्त किया गया एवं आयुर्वेद विभाग द्वारा इनकी इस क्षॆत्र मे सेवाओ को देखते हुए जिले के सह-प्रभारी का दायित्व दिया गया आयुष मंत्रालय द्वारा सीकर जिले मे कार्यक्रम के लिए योगास्थली योगा सोसायटी, जयपुर को नियुक्त किया जिन्होंने आलोक कौशिक को सीकर का कोर्डिनेटर नियुक्त किया गया|
इनके सहयोग के लिए अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर मुख्य कार्यक्रम पर आयुर्वेद विभाग द्वारा सह-प्रभारी के रुप मे कार्य करने पर विशेष रुप प्रशस्ति पत्र एवं स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया गया |
आलोक कौशिक से बात करने पर उन्होने बताया की विभिन्न सामाजिक कार्यो के भागीदारी के साथ योग एवं प्राकृतिक चिकित्सा के क्षॆत्र मे गावो को साथ लेते हुए पूरे देश मे धीरे -धीरे लोगो को जागरूक करने का कार्य विभिन्न संस्थाओ के साथ मिलकर किया जा रहा है।