क्या झूठ,धोखा व विवादों की बुनियाद पर खड़ी की है ,जयपुर लिटरेचर फेस्टिवल की इमारत,टीम वर्क थी एक इवेंट कम्पनी ,क्या संजोय रॉय ने धोखे से हथियाया इसे,तफ्तीश जारी,, डिग्गी पैलेस के मालिक रामप्रताप सिंह डिग्गी भी नारकोटिक्स ड्रग्स के मामले में हो चुके हैं गिरफ्तार, सच के साथ सच की आवाज़ newindia खबर को मिलने लगी धमकियां

717

यह कैसा शाही साहित्य स्नान उत्सव,आमजन के लिए 500 रुपये का टिकिट, यातायात विभाग हुआ नतमस्तक,5 दिनों से बजा रहा है ड्यूटी, मरीज़ों व आमजन को हो रही है परेशानी रुट डाइवर्ट की वजह से,,,
फेस्टिवल को करो सुदूर स्थानांतर

जयपुर 25 जनवरी2019।(NIK culture) गुलाबी नगर जयपुर हमेशा से ही अपनी कला संस्कृति यहाँ के मोनीमेंट,दर्शनीय स्थलों आदि की वजह बॉलीवुड के साथ पर्यटकों का आकर्षण का केंद्र बना हुआ है ।
यहाँ ऐसी कोई बड़ी साहित्य,बॉलीवुड व अन्य क्षेत्रों की शख्शियत नहीँ जो जयपुर ना आई हो, पर उनकी वजह से कभी आमजन की परेशानी का सबब नहीं बनी,पर लगता है जयपुर लिटरेचर फेस्टिवल अपने आप मे एक इकलौता अनूठा उदाहरण है जब प्रशासन व सरकारी अमला इस उत्सव के कर्ताधर्ताओं के आगे नतमस्तक नज़र आएं हैं ।
पहले डिग्गी हाउस में कई बिज़नेस हाउसेस हुआ करते थे, पर इसके मालिक साहब ने इस उत्सव के कारण येनकेन सभी को खाली करवा लिया ।
आज मीडिया को मैनेज करना कितना आसान है यह इस उत्सव के मेनेज़नेन्ट से कोई सीखे।
उद्घाटन के चंद घण्टों बाद हुए एक बड़े हादसे का जिक्र।तक मैनेज कर लिया गया,,कई लोग हुए थे घायल जिसमें पत्रकार भी थे शामिल, एक वरिष्ठ पत्रकार के तो सर पर गम्भीर चोट के चलते 14 टांके भी आये हैं ।
Newindia खबर को किसी से कोई व्यक्तिगत द्वेष नहीँ पर यह उत्सवी प्लेस आमजन की परेशानी का कारण बने, राज्य के सबसे बड़े अस्पताल सवाईमान सिंह के मरीज़ों को Iआवागमन में तकलीफ हो ,शहर के डीजी पुलिस का बंगला भी यहीं कुछ दूरी पर है,साथ ही दो बड़े महाबिद्यालय भी इसके चंद दूरी पर है, कॉलेज विद्यार्थीयों के सुलभ।गमन के रास्ते मे अड़चन पैदा करता है यह socalled festival, जहाँ साहित्य के नाम पर अंग्रेज़ियत दिखाई जाती है,आमजन व एलीट क्लास के।बीच मतभेद उत्पन्न किया जा रहा है।
सरकार से निवेदन है कि इसे।शहर के व्यस्ततम इलाके से।दूर।कहीं अन्यत्र स्थानांतरित किया जाए।
सच के साथ सच की आवाज़ का हिस्सा बन अपनी आवाज़ बुलंद करेँ।