जवाहरकला केंद्र अपने उद्देश्यों से भटक,राज्य की समृद्ध लोकसंस्कृति को भूल बाज़ारू संस्कृति को पनपाने में लीन,अनुराधा सिंह व पूजा सूद पर आर्थिक अनियमितताएं व हठधर्मी का आरोप

256

किसी ने सोचा नहीं था,जवाहरकला केंद्र बनेगा कला की खरीदफरोख्त का अड्डा, स्थानीय कलाकारों मुख्यद्वार के बाहर धरने पर बैठने को होंगें मजबूर,

जयपुर 22जनवरी 2019।(NIK culture)संयुक्त कलाकार मंच की ओर से संगीत जगत,रंगमंच और चित्रकारी के सिद्धहस्त कलाकारों ने केंद्र के मुख्य द्वार पर जवाहर कला केंद्र में हो रही आर्थिक अनियमितता एवं नवरस के बहाने फरवरी में बाहरी कलाकारों पर दो करोड़ रुपए खर्च करने को लेकर कलाकारों ने शांतिपूर्ण विरोध प्रदर्शन किया।कलाकारों में पदम श्री से सम्मानित गुलाबो सपेरा , संस्कृतिकरण ईश्वर दास माथुर, चित्रकार आरआरबी गौतम संस्कृति कर्मी माधव सिंह ,राजस्थानी फिल्म के लेखक एवं कलाकार शिवराज गुर्जर ,गजल गायक डॉ. सुनील राही उद्घोषक दीपक पवार ,चित्रकार लाखन सिंह ,रंगकर्मी शहजाद अली ,वरिष्ठ रंगकर्मी राजेंद्र पायल ,वरिष्ठ रंगकर्मी व लेखक अशोक राही ,रंगकर्मी हिमांशु झाकल, भानु राव, नृत्य गुरु राजेंद्र राव समेत करीब 3 दर्जन कलाकारों ने विरोध प्रदर्शन किया एवं जवाहर कला केंद्र से महानिदेशक पूजा सूद और अतिरिक्त महानिदेशक अनुराधा सिंह को तुरंत प्रभाव से हटाने की मांग रखी ।
गौरतलब है हाल ही में कलाकारों का दल कला संस्कृति मंत्री बीडी कल्ला से भी मुलाकात कर जवाहर कला केंद्र में हो रही है अनियमितता एवं नवरस कार्यक्रम में होने वाले करोड़ों की खेल से अवगत करा चुके हैं कलाकारों ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से भी जवाहर कला केंद्र में प्रशासनिक अधिकारी लगाए जाने की अपील की है