घोषणा पत्र,सिर्फ घोषणा या आमजन की चिंता

421

भाजपा के बाद चुनावों के ठीक पहले कांग्रेस ने किया घोषणा पत्र जारी,,
जयपुर 29 नवम्बर।(NIK)आज ही भाजपा और कांग्रेस के बाद,, भाजपा सरकार में मंत्री रह चुके कद्दावर नेता, भारत वाहिनी पार्टी के प्रणेता,घनश्याम तिवाड़ी ने भी अपना घोषणा पत्र, मतलब दृष्टि पत्र जारी किया ।
भारत जब समृद्ध होगा तब घोषणा पत्र सिर्फ घोषणाएं ना रह कर इसे मूर्तरूप देने के सार्थक प्रयास हों, आखिर घोषणा पत्र जारी हुआ वो भी चुनावों के मात्र 9 दिन पहले,,
ऊपर से तुरर्रा,, मैं घोषणाओं के मामले में सबसे आगे,
कोई कानून तो है नहीं कि घोषणाएं अमलीजामा ना पहने तो कोई कानून है,हर बार बेवकूफ बनती जनता आखिर इन झूठे, लोकलुभावन पत्रों ,घोषणा पत्रों की शिकायत कहाँ करे,,,

तब ही तो कैंची जैसी कतरनी जुबान से फेंक दिया जाता है ,2 करोड़ नौकरी,,
उससे पहले बेरोजगारों को महंगाई भत्ता,,
दूसरी पार्टी से अधिक,,,

युवाओं, महिलाओं व बुजुर्गों की समस्या कोई मुद्दा नहीं,

जाति धर्म की राजनीति है बस,,,,