पेपर लीक से आक्रोशित युवाओं की नाराज़गी कहीं ले ना डूबे गहलोत सरकार,, तबादले नहीं होने से नाराज थर्ड ग्रेड टीचर्स सरकार को वोट से चोट देने के मूड में,

191

जयपुर 4 नवंबर 2023।(निक राजनीतिक) अपनी योजनाओ के दम पर प्रदेश में दोबारा सत्ता हासिल करने का दावा कर रहे अशोक गहलोत की राह आसान नजर नहीं आ रही है। क्योंकि कांग्रेस सरकार मैं पेपर लीक का मामला देशभर में चर्चा का विषय बन चुका है।

प्रदेश में आगामी दिनों में हो रहे विधानसभा चुनावों में पेपर लीक बड़ा मुद्दा बनेगा। प्रदेश में पिछले साढ़े चार साल में हुए पेपर लीक की घटनाओं ने सरकार की जमकर किरकिरी कराई है। बीजेपी ने इसे बड़ा मुद्दा बना लिया है। हालांकि बतौर मुख्यमंत्री गहलोत ने डैमेज कंट्रोल की कोशिश की, अपराधियों के खिलाफ सख्त कदम उठाए है, पेपर लीक मामलेमें फांसी तक देने का कानून बनाया, लेकिन तब तक तीर कमान से निकल चुका था। राज्य से निकलकर देशभर में राष्ट्रीय मुद्दा बन चुका है। पेपर लीक मामला युवाओं की नाराज़गी का कारण बन चुका है। सबसे ज्यादा संख्या वाले युवा वोटर्स की नाराजगी कांग्रेस सरकार के लिए चुनाव में बड़ा नुकसान करेगी। भर्तियों को लेकर उम्मीद लगाए बैठे युवाओं का आए दिन हुए पेपर लीक से मेहनत पर पानी फिरता देख सरकारी नौकरियों से मोहभंग हो गया है। युवाओं में इसको लेकर छाए आक्रोश को शांत करना गहलोत के लिए टेढ़ी खीर होगा।

*तबादले नहीं होने से नाराज थर्ड ग्रेड टीचर्स ने खोला मोर्चा*

    सीएम अशोक गहलोत पर थर्ड ग्रेड टीचर्स के ट्रांसफर का मुद्दा भी चुनावी दंगल में भारी पड़ेगा। गहलोत सरकार के कार्यकाल में 2 लाख से ज्यादा थर्ड ग्रेड टीचर्स ट्रांसफर की उम्मीद लगाए बैठे रहे,सरकार का कार्यकाल पूरा हो गया लेकिन उन्हें सिर्फ निराशा हाथ लगी। थर्ड ग्रेड टीचर्स की नाराजगी गहलोत सरकार की हार का बहुत बड़ा कारण साबित होगी, क्योंकि थर्ड ग्रेड टीचर्स ने खुलकर सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। थर्ड ग्रेड टीचर्स कोरोना के दौरान तत्कालीन शिक्षा मंत्री डोटासरा के फैसले के खिलाफ और लामबंद हों गए थे जिसमे उन्होंने घर घर जाकर टीचर्स को वोरोना जांच करने का आदेश दिया, हालांकि विवाद इतना बड़ा की उन्हें यह फैसला वापिस लेना पड़ा। सरकार ने आए दिन छुट्टियां कैंसल करके रगड़ाई होने से नाराज थर्ड ग्रेड टीचर्स से वोट की उम्मीद करना बड़ा मुश्किल साबित होगा। चुनाव के इंतजार में बैठे टीचर्स इस बार वोट से सरकार को चोट देने के मूड में दिखाई दे रहे हैं।