डीजीपी बनने वाले अधिकारी लॉबिंग करने में सक्रिय,, क्या निरंजन आर्य की तरह सौरभ श्रीवास्तव देंगे टक्कर,,

344

विशेष रिपोर्ट, वरिष्ठ पत्रकार महेश झालानी की पैनी कलम से,

जयपुर 12 सितंबर 2022।(निक विशेष) कार्मिक विभाग ने नया पुलिस महानिदेशक नियुक्त करने के लिये 1992 बैच तक के सभी अधिकारियों की सूची यूपीएससी को भिजवा दी है । वहां से सूची अनुमोदित होने के बाद किसी को भी इस पद पर मुख्यमंत्री नियुक्त कर दिया जाएगा । चूंकि यह चयनित पद है, इसलिए वरिष्ठता को लांघकर भी डीजीपी की नियुक्ति की जा सकती है । जैसे निरंजन आर्य को कइयों की वरिष्ठता को नजरअंदाज करते हुए मुख्य सचिव बनाया गया था ।

राजस्थान के पुलिस महानिदेशक के पद कार्यरत एमएल लाठर 30 नवम्बर को इसके अगले माह यानी 31 दिसम्बर को बीएल सोनी भी रिटायर्ड हो जाएंगे । अगला डीजीपी कौन होगा, इसके लिए कई योग्य व्यक्ति कतार में खड़े हुए है । वैसे बीएल सोनी को पहले डीजीपी बनाने का लगभग निर्णय हो चुका था । लेकिन उदयपुर में कन्हैयाल की निर्मम हत्या की वजह से मामला खटाई में पड़ गया है ।

    पता चला है कि कार्मिक विभाग की ओर से 13 अधिकारियों के नाम अनुमोदनार्थ संघ लोक सेवा आयोग को भेजे गए है । नाम उन्ही के भेजे जाते है जिनकी सेवानिवृति में न्यूनतम 6 माह का समय और 30 वर्ष की सर्विस का तजुर्बा हो । पंकज कुमार सिंह और बीएल सोनी का नाम इसलिए नही भेजे गए, क्योकि ये इसी साल ही रिटायर्ड हो जाएंगे ।
    जहां तक नए डीजीपी बनने की बात है, मुख्य रूप से भूपेंद्र कुमार दक और सौरभ श्रीवास्तव का नाम प्रमुखता से लिया जा रहा है । दोनो सीएम के बेहद नजदीक है । श्रीवास्तव सीएमओ में नियुक्त रह चुके है । हालांकि वरिष्ठता के लिहाज से इनका नम्बर बहुत नीचे है । उमेश मिश्रा भी सीएम बहुत ही करीबी है । जब गहलोत सरकार संकट से जूझ रही थी, तब मिश्रा ने उनकी बहुत मदद की । वैसे नीना सिंह भी प्रबल दावेदार है । लेकिन वे और उनके पति रोहित कुमार सिंह दिल्ली में खुश है । नीना सिंह को बाद में भी बनाया जा सकता है क्योंकि जुलाई, 24 में उनका रिटायर्डमेन्ट है ।

    7 लाख 90 हजार से अधिक पाठको/व्यूअर्स का विश्वास