निम्स यूनिवर्सिटी ने मनाया 22वां स्थापना दिवस समारोह असंभव कुछ भी नहीं, खुली आंखों से सपने देखो और उसे पूरा करो: डॉ. तोमर

45

"निम्स दिवस" पर 13 नई पहल की शुरुआत
शिक्षा के साथ-साथ सामाजिक सरोकारों में अग्रणी है निम्स विश्वविद्यालय
रंगारंग सांस्कृतिक प्रस्तुतियों में झूमे स्टूडेंट्स
20 से अधिक शिक्षाप्रद झांकियों का हुआ प्रदर्शन

जयपुर, 28 अगस्त 2022।(निक चिकित्सा) विश्वस्तरीय शिक्षा के मामले में देश में अग्रणी निम्स यूनिवर्सिटी ने आज अपना 22वां स्थापना दिवस समारोह "निम्स दिवस" मनाया। समारोह का आयोजन जयपुर-दिल्ली हाइवे स्थित निम्स विवि परिसर के क्रिकेट ग्राउंड में किया गया। निम्स यूनिवर्सिटी के चेयरमैन और चासंलर प्रो. (डॉ.) बलवीर सिंह तोमर कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में शामिल हुए। उन्होंने सफलतम 21 वर्ष पूर्ण करने के लिए निम्स समूह कर्मचारियों, विद्यार्थियों और शुभचिंतकों को शुभकामनाएं दी। डॉ. तोमर ने संदेश दिया कि खुली आंखों से सपने देखो और उसे जी-जान लगाकर पूरा करो। यदि आप बड़े व्यक्ति बन गए हैं तो जो पीछे छूट गए हैं, उन्हें भी आगे बढ़ने में मदद करें।

इस मौके पर निम्स चेयरमैन डॉ. तोमर ने निम्स यूनिवर्सिटी द्वारा जनकल्याण और सामाजिक सरोकारों से जुड़ी 13 नई पहल की शुरुआत की। इनके अंतर्गत गांव गोद लेकर जनजागरूकता लाने, ग्रामीण खेल प्रतिभाओं को प्रोत्साहन देने, निराश्रित गोवंश के लिए पेयजल की व्यवस्था करने सरीखे कई प्रकार के अभिनव कार्य किए जाएंगे।
इस मौके पर विवि के मेडिकल, डेंटल, फॉर्मेसी, मैनेजमेंट, इंजीनियरिंग आदि कॉलेजों द्वारा 20 से अधिक ज्ञानवर्धक झांकियां प्रदर्शित की गईं। झांकियों में एजुकेशन और करियर से जुड़े विभिन्न पहलुओं को विद्यार्थियों ने रचनात्मक तरीके से पेश किया।

निम्स कुलगीत भी हुआ जारी

    निम्स विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ. संदीप मिश्रा ने बताया कि निम्स दिवस के अवसर पर निम्स विवि का कुलगीत (एंथम) "जय जय निम्स विश्वविद्यालय....." भी जारी किया गया। इस मौके पर विवि को अपनी सबसे लंबी सेवाएं देने वाले कर्मचारियों को भी सम्मानित किया गया। इस मौके पर एनसीसी कैडेट्स, स्कूल स्टूडेंट्स, सिक्योरिटी गार्ड और विदेशी विद्यार्थियों द्वारा आकर्षक मार्च पास्ट किया गया।

    नृत्य प्रस्तुतियों में नजर आई हमारी विविधता में एकता की खूबी
    कार्यक्रम में निम्स विवि और निम्स इंटरनेशनल के विद्यार्थियों ने रंगारंग सांस्कृतिक प्रस्तुतियां भी दी। उत्तर-पूर्वी और दक्षिण-पश्चिमी राज्यों के प्रसिद्ध नृत्यों की प्रस्तुतियों में भारत की विविधता में एकता की खूबी नजर आई। कार्यक्रम में शास्त्रीय, लोक नृत्यों और वेस्टर्न डांस का बेहतरीन फ्यूजन देखने को मिला।
    समाज कल्याण के क्षेत्र में काम करने वाले लोगों को किया सम्मानित

    कार्यक्रम में देहदान की घोषणा करने वाले भवानी सिंह, गोसेवा के कार्य करने वाले हिंगोनिया गोशाला, कुण्डा गोशाला के प्रतिनिधियों को भी सम्मानित किया गया। बाल संबल के प्रतिनिधियों, नजदीकी गांवों के सरपंचों को भी स्मृति चिह्न प्रदान कर सम्मानित किया गया।
    इन 13 पहल के माध्यम से उठाया जनकल्याण का बीड़ा
    निम्स यूनिवर्सिटी जनकल्याण और सामाजिक सरोकारों से जुड़े अपने उत्तरदायित्वों के निर्वहन में हमेशा आगे रही है। निम्स दिवस के मौके पर विवि द्वारा 13 नई पहल शुरू की गई हैं, जिनमें क्रमश: ग्रामोत्थान अभियान (गांव गोद लेकर उन्हें उन्नत और सेहतमंद बनाने का जतन), आओ खेलें (ग्रामीण खेल प्रतिभाओं को प्रोत्साहन की एक पहल), निरोगी मानुष (स्वास्थ्य के प्रति जनजागरूकता लाने का समर्पित प्रयास), विधवा विद्या दान (शिक्षा और कौशल विकास से विधवा महिलाओं के उन्नयन की अभिनव पहल), कचरा निस्तारण योजना (स्वच्छ-सुंदर परिवेश बनाने की एक अनूठी पहल), साथी हाथ बढ़ाना (जरूरतमंदों के पुनर्वास एवं कृत्रिम अंग प्रत्यारोपण के साझा प्रयास), समाज नशा मुक्ति मंच (नशे के दुष्प्रभावों से जनमानस को बचाने के समेकित प्रयास) शामिल की गई हैं। इनके अलावा स्वास्थ्य जनज्ञान योजना (प्राथमिक उपचार कौशल विकास से जीवनरक्षा के प्रयास), गऊ माता जलधारा (निराश्रित गोवंश को पेयजल उपलब्ध कराने की अनूठी पहल), अंगदान महादान (आमजन को अंगदान के लिए प्रोत्साहित करने के प्रयास), मेरी दवा तेरी दवा (बची दवा के इस्तेमाल से किसी को स्वस्थ बनाने की कोशिश), अनाश्रय अंत्योदय (अनाथालयों के बच्चों के संबल और उन्नयन के प्रयास) और अडोप्ट अ हिल (पहाड़ियों के संरक्षण की पहल) भी इनमें शामिल हैं।
    उल्लेखनीय है कि निम्स यूनिवर्सिटी और निम्स हॉस्पीटल द्वारा डॉ. बीएस तोमर फाउंडेशन के बैनर तले गरीब व जरूरतमंद लोगों को मुफ्त स्वास्थ्य परामर्श, जांच व उपचार प्रदान किया जाता है। विगत एक दशक में 5 लाख से अधिक लोग मुफ्त इलाज का लाभ उठा चुके हैं। इसके अलावा श्रीमती राजेश्वरी जच्चा-बच्चा योजना के तहत निम्स अस्पताल में मुफ्त प्रसव, मां एवं नवजात का उपचार और देखभाल हेतु ₹11 हजार की आर्थिक सहायता प्रदान की जाती है।

    *Open link for this news 🖕🏾*

    *हमारे चैनल को सब्सक्राइब करना ना भूले*

    70 से अधिक देशों के विद्यार्थियों की पसंद निम्स
    मेडिकल एजुकेशन के क्षेत्र में खास पहचान रखने वाली निम्स यूनिवर्सिटी देश के अग्रणी विश्वविद्यालयों में शामिल है। यूजीसी और एनएएसी से मान्यता प्राप्त निम्स यूनिवर्सिटी एनआईआरएफ की 101-150 वीं रैंकिंग में शामिल है। यहां विभिन्न संकायों में 400 से अधिक पाठ्यक्रम संचालित हैं। 70 से अधिक देशों के विद्यार्थी सहित 10 हजार से अधिक छात्र यहां अध्ययनरत हैं। विद्यार्थियों के सर्वांगीण विकास के लिए निम्स द्वारा 150 से अधिक एमओयू साइन किए गए हैं और यहां परिसर में बैंक, पोस्ट ऑफिस, मॉल, ग्रोसरी स्टोर, रेस्टोरेंट सभी आवश्यक सुविधाएं उपलब्ध हैं।

स्वास्थ्य और शिक्षा जगत में विशेष पहचान रखते हैं डॉ. तोमर

निम्स यूनिवर्सिटी के संस्थापक, चेयरमैन और चासंलर प्रो. डॉ. बलवीर सिंह तोमर, स्वास्थ्य सेवा और शिक्षा क्षेत्र में एक विशिष्ट पहचान रखते हैं। डॉ. तोमर निम्स और निफ्लक्स ग्रुप के तहत निम्स यूनिवर्सिटी, निम्स अस्पताल, निफ्लक्स एलईडी लाइट आदि व्यापारिक संस्थानों का संचालन कर रहे हैं। पीडियाट्रिक-गेस्ट्रोएंट्रोलॉजी विशेषज्ञ डॉ. तोमर ने किंग्स कॉलेज हॉस्पीटल स्कूल ऑफ मेडिसिन, यूनिवर्सिटी ऑफ लंदन, हार्वर्ड यूनिवर्सिटी जैसे प्रतिष्ठित संस्थानों से शिक्षा प्राप्त की है। डॉ. तोमर पीडियाट्रिक-गेस्ट्रोएंट्रोलॉजी, ऑर्गन ट्रांसप्लांट, स्टेम सेल, न्यूट्रिशन एंड पब्लिक हेल्थ की विभिन्न राष्ट्रीय-अंतरराष्ट्रीय संस्थाओं में अध्यक्ष और निदेशक हैं।