कम से कम 200 यूनिट बिजली फ्री करे सरकार: खेमचंद जागीरदार’- ‘फ्री बिजली के नाम पर गरीबों के साथ मजाक कर रहे हैं गहलोत : शास्त्री- घोषणाओं का पत्र है ये बजट नहीं, बिगड़े सिस्टम में घोषणाएं कागजों में पूरी होती है: शास्त्री,,

91

जयपुर 23 फरवरी 2022।(निक राजनीति) आम आदमी पार्टी के प्रदेश सह प्रभारी खेमचंद जागीरदार* ने कहा है कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने बिजली के मामले में आम आदमी पार्टी की नकल तो की पर आधे मन से और बिना दिमाग इस्तेमाल किये। सौ यूनिट बिल वाले को 50 यूनिट फ्री दी जाएगी। ये छूट नहीं देने की मंशा है। कमसे कम 200 यूनिट फ्री की जानी चाहिए।

आम आदमी पार्टी राजस्थान के प्रदेश सचिव देवेंद्र शास्त्री* ने कहा है कि मुख्यमंत्री ने फ्री बिजली के नाम पर गरीब परिवारों का मजाक बनाया है। चार से पांच सदस्यों वाला कौनसा परिवार है जो केवल 100 यूनिट बिजली से काम चलाता है? शायद न के बराबर। इस छूट का कोई अर्थ नहीं है। आम आदमी पार्टी ने दिल्ली में 300 यूनिट पूरी तरह फ्री दी हैं जिससे बड़ी संख्या में गरीब परिवारों को राहत मिली है। पर गहलोत जी ने महज 50 यूनिट बिजली फ्री उनको देने की घोषणा की है जिनका बिल 100 यूनिट का होगा। सरकार उन उपभोक्तओं की संख्या बताये जिनका बिल 100 यूनिट तक रहता है। शायद न के बराबर। सच ये है कि गहलोत सरकार गरीबों को फ्री बिजली देने के पक्ष में नहीं है। इसलिए न नो मन तेल होगा और ना ही राधा नाचेगी वाली कहावत चरितार्थ की गई है।

    देवेंद्र शास्त्री ने कहा कि किसानों के लिए अलग से बजट बनाया गया है। पर दिया कुछ भी नहीं। किसानों को सबसे बड़ी राहत बिजली की मिलनी चाहिए थी। वो नही दी गई। सिंचाई,जल संरक्षण, कृषि तकनीक और शिक्षा पर खर्च बढ़ाने की जरूरत है। इस दिशा में सरकार के कदम पीछे हट रहे हैं।
    *स्वास्थ्य* के क्षेत्र में सरकारी अस्पतालों की कार्यप्रणाली सुधारने पर कोई जोर नहीं है लिहाजा निजी अस्पतालों और डॉक्टर्स की लूट बदस्तूर जारी रखने की इजाजत दे दी गई है। आधारभूत शिक्षा के क्षेत्र में आमूलचूल परिवर्तन की जरूरत है। उस पर बजट में कुछ भर्तियों की रस्म पूरी की गई है।