श्री लखदातार वेंचर्स में सिक्योर आईटी का प्रमाणित प्रशिक्षण कार्यक्रम लांच,,

140

जयपुर, 06 दिसम्बर,2021।(निक वाणिज्य) जयपुर में करीब एक माह पहले आरम्भ हुए श्री लखदातार वेंचर को आईपीबी के प्रशिक्षण पाठ्यक्रम में विद्यार्थियों से अपार प्रतिसाद मिला है। इसी क्रम में आज संस्थान ने सिक्योर आईटी की सहभागिता में 105 दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम शुरू करने की घोषणा की। सिक्योर आईटी भारत की एकमात्र वैश्विक साइबर सुरक्षा प्रमाणन केन्द्रित है एवं जागरूकता कार्यक्रमों के लिए निजी और सरकारी क्षेत्र में काम कर रही कम्पनी है। लांच के अवसर पर मुख्य अतिथि सिक्योर आईटी के संस्थापक एवं सीईओ आलोक त्रिपाठी ने संस्थान का परिचय देते हुए बताया कि अपनी अनूठी और विशिष्ट सेवाओं के साथ, हम सिक्योर आईटी को देश की नम्बर वन साइबर सुरक्षा प्रमाणन, सेवाएं और समाधान परामर्श बना सके हैं।

इस अवसर पर राजस्थान सामजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग के सेवानिवृत संयुक्त निदेशक आर.एल. मीणा भी उपस्थित रहे।
इन प्रशिक्षण कार्यक्रमों के बारे में जानकारी देते हुए श्री लखदातार वेंचर्स की डायरेक्टर संध्या यादव ने मीडिया को बताया कि सिक्योर आईटी भारत का एकमात्र साइबर सुरक्षा प्रमाणन केन्द्रित संगठन है जिसका उद्देश्य विषय की गहरी समझ, कॉरपोरेट वातावरण के सम्पर्क और बेहतर केरियर के अवसर प्रदान करना है। उन्होंने बताया कि यह प्रशिक्षण कार्यक्रम 105 दिवसीय है जिसमें 15 दिन ऑफलाइन तथा शेष तीन माह की इन्टर्नशिप (ऑन जॉब ट्रेनिंग) दी जाएगी। उन्होंने बताया कि राजस्थान में इस प्रकार का प्रशिक्षण पहले कहीं पर नहीं दिया जा रहा था। बढ़ते हुए साइबर अपराधों को देखते हुए इस प्रशिक्षण प्रोग्राम को आज जयपुर से पूरे राजस्थान के लिए लांच किया जा रहा है।

श्री लखदातार वेंचर्स की डायरेक्टर कमसिन वर्मा ने बताया कि केवल प्रशिक्षण देना ही इस संस्थान का मकसद नहीं है प्रशिक्षण के बाद अभ्यर्थियों को रोजगार दिलाना भी कम्पनी का दायित्व है इसके लिए कम्पनी ने पूरे देश की 128 लब्ध प्रतिष्ठित कम्पनियों के साथ गठबंधन किया है। स्टूडेन्ट अपना केरियर ऑप्शन एविएशन, बैंकिंग, टेक्नोलॉजी, कन्सटलेशन के साथ अगल-अलग सेक्टर की कम्पनीज में अपना केरियर बना सकते हैं। भारत में कोटक बैंक, इन्फोसिस, विप्रो, सिनोप्सिस, जैसी कम्पनियां सायबर सिक्योरिटी के क्षेत्र में हायरिंग के लिए काफी अग्रसर रहती हैं। उन्होंने बताया कि इस क्षेत्र में एक्सपर्ट बनने के लिए पीजी डिप्लोमा, डिप्लोमा या सर्टिफिकेट कोर्स में से किसी एक कोर्स को करना जरूरी है। हालांकि कम संस्थानों में ही इसके लिए अलग से कोर्स उपलब्ध हैं। लेकिन अधिकतर संस्थानों में इससे सम्बन्धित एक या दो सब्जेक्ट अवश्य पढ़ाए जाते हैं। इस कोर्स के अंतर्गत साइबर लॉ और साइबर सिक्योरिटी से जुड़ी मूल बातें, नेटवर्क सुरक्षा, हमलों के प्रकार, नेटवर्क सिक्योरिटी के खतरे, हमले और खामियां, सुरक्षा संबंधी समाधान और उन्नत सुरक्षा प्रणाली आदि विशेष रूप से पढ़ाए जाते हैं। श्री लखदातार वेंचर में इसी प्रकार के पाठ्यक्रम का प्रशिक्षण सिक्योर आईटी के निर्धारित केरिकुलम के अनुसार प्रदान किया जाएगा।

    श्री लखदातार वेंचर्स के मैनजमेंट कंसलटेंट मनीष टाक व सहभागी भुवनेश शर्मा और पवन भारद्वाज का कहना था कि साइबर सिक्योरिटी एक्सपर्ट की चर्चा होते ही अंकित फाडिया का नाम सामने आ जाता है, जिन्होंने ओसामा बिन लादेन के लोगों द्वारा भेजे गए एक ई-मेल को डिकोड करने में सफलता हासिल की थी। आए दिन साइट हैकिंग से लेकर ऑनलाइन बैंकिंग फ्रॉड अथवा साइबर बुलिंग की खबरें सुनने को मिलती रहती हैं। यही है साइबर क्राइम और इन कामों को अंजाम देता है कम्प्यूटर तकनीक के जरिए एक हाइटेक अपराधी। इसे रोकने के लिए जरुरत होती है साइबर सिक्योरिटी एक्सपर्ट की।