जब तक बच्चों के वैक्सीनेशन नहीं, स्कूल नहीं खोले जाए-राजस्थान अभिभावक संघ,,

782

जयपुर 24 जुलाई 2021।(निक शिक्षा)आज पिंक सिटी प्रेस क्लब में प्रेस कॉन्फ्रेंस कर राजस्थान अभिभावक संघ ने बच्चों के बिना वैक्सीनेशन के स्कूल खोलने का विरोध किया।
प्रेस वार्ता को संबोधित करते हुए राजस्थान अभिभावक संघ के अध्यक्ष सुशील शर्मा ने कहा कि अभी तक तो स्कूल स्टाफ को ही पूरी तरह से वैक्सीन नहीं लगी बच्चों की वैक्सीन आई तक नहीं है। केंद्र सरकार व विभिन्न एजेंसियां बार-बार तीसरी लहर की चेतावनी दे रही है। ऐसे में स्कूल खोलने का फैसला लेना गंभीर खतरों को आमंत्रण देना है। सरकार अपनी जिम्मेदारियों से हाथ खींच रही है।और जानबूझकर बच्चों व उनके माता-पिता की जान जोखिम में डाल रही है। विगत 1 साल से हम अभिभावकों को स्कूलों के द्वारा लगातार प्रताड़ित किया जा रहा है। सरकार इस बाबत कोई ठोस कदम नहीं उठा रही है। सुशील शर्मा ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट के निर्देशों के अनुपालन के संबंध में सरकार एवं शिक्षा विभाग वह निजी स्कूलों का रवैया अत्याधिक निराशाजनक है।
राजस्थान अभिभावक संघ के प्रवक्ता ईशान शर्मा ने आईसीएमआर डायरेक्टर डॉ भार्गव को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि कल तक तो आप का वक्तव्य था कि तीसरी लहर बच्चों के लिए घातक है। और कुछ दिनों में ऐसा क्या हो गया ऐसी क्या मजबूरी हो गई कि आपको झूठा व्यक्तत्व देना पड़ा कि बच्चों पर कोरोना का कोई फर्क नहीं पड़ेगा।
राजस्थान के शिक्षा मंत्री डोटासरा जी पर भी तंज कसते हुए कहा कि एक तरफ आठवीं क्लास तक की टीसी की अनिवार्यता उठाते हैं। विभागों को आदेश जारी करते हैं लेकिन स्कूलों के प्रतिनिधियों से मिलते ही आदेश वापस ले लिया जाता है। यह सब बचकानी हरकतें हम अभिभावकों को राज व्यापी आंदोलन के लिए मजबूर कर रही है। जिसके लिए सरकार जिम्मेदार होगी।

राजस्थान अभिभावक संघ सदस्य प्रियंका मेहता एवं लक्ष्मी शर्मा ने सरकार की कार्यप्रणाली को अभिभावक विरोधी बताया और कड़े शब्दों में स्कूलों द्वारा किए जा रहे अमाननीय व्यवहार दोहरे चरित्र की निंदा की।
इस अवसर पर प्रेस वार्ता में ऑल राजस्थान पेरेंट्स फ़ोरम, संयुक्त अभिभावक संघ, अभिभावक एकता आंदोलन, समाजसेवी संगठनों एवं राजनीतिक संगठनों ने स्कूल खोले जाने के मुद्दे को लेकर एक राय जाहिर की और कहा कि जब तक बच्चों को पूर्ण वैक्सीनेशन नहीं हो जाता तब तक अभिभावक अपने बच्चों को स्कूल नहीं भेजेगा।