’’समाधान हैल्पलाईन’’ पुलिसकर्मियो की समस्या का करेगी त्वरित निवारण और देगी सम्बधित विभागीय जानकारी,,

226

जयपुर,31 मार्च 2021।(निक क्राइम) पुलिसकर्मियों की विभागीय एवं व्यक्तिगत विषयों से संबंधित समस्याओं का त्वरित समाधान करने के लिये प्रत्येक जिला पुलिस अधीक्षक व पुलिस उपायुक्त कार्यालय स्तर पर ’’समाधान हैल्पलाईन’’ स्थापित किया जाना प्रस्तावित है।
महानिदेशक पुलिस एमएल लाठर ने बताया कि हैल्पलाईन 24x7x365 आधार पर नियंत्रण कक्षों में इस हैल्पलाईन संबंधित जिला पुलिस अधीक्षक/पुलिस उपायुक्त कार्यालय में एक लैण्डलाईन दूरभाष नम्बर अथवा किसी मोबाईल फोन नम्बर पर भी यह सुविधा प्रारम्भ की जा सकेगी।
लाठर ने बताया कि ’’समाधान हैल्पलाईन’’ की स्थापना का उद्देश्य पुलिसकर्मियों को उनकी जायज समस्याओं के त्वरित निराकरण हेतु एक उचित माध्यम उपलब्ध कराना है ताकि वे अपनी समस्या सीधे ही अपने उच्चाधिकारी तक पहुंचा सके। इस व्यवस्था में पत्राचार को न्यूनतम एवं परस्पर व्यक्तिगत सम्वाद को अधिकतम प्राथमिकता प्रदान की जायेगी। पुलिस कर्मियों द्वारा प्रद्त्त जानकारियों की गोपनीयता भी सुनिश्चित की जायेगी।
अतिरिक्त महानिदेशक पुलिस आयोजना आधुनिकीकरण एवं कल्याण गोविन्द गुप्ता ने इस संबंध में एक परिपत्र जारी कर समस्त जिला पुलिस अधीक्षक एवं पुलिस उपायुक्त को आवष्यक दिशा-निर्देश जारी किये है। इन निर्देशो के अनुसार यह हैल्पलाईन संबंधित जिला पुलिस अधीक्षक व पुलिस उपायुक्त की व्यक्तिगत निगरानी में कार्य करेगी ताकि उन्हें इस हैल्पलाईन पर प्राप्त सभी समस्याओं की जानकारी होती रहे एवं वे इन समस्याओं के निराकरण हेतु समुचित त्वरित कार्यवाही सुनिश्चित किया जा सके। गुप्ता ने बताया कि पुलिस अधीक्षक व पुलिस उपायुक्त आवश्यकतानुसार सम्बन्धित पुलिस कर्मी से सामान्य दूरभाष, वीडियो काल व वाट्सअप काल के माध्यम से वार्ता करने अथवा यथोचित स्थान पर कार्मिक को व्यक्तिश: सुनने जैसी उचित प्रक्रिया अपना कर उसकी समस्या का समाधान करेगी।
जिस जिले में भी पुलिसकर्मी फोन करता है, उसी जिले की हैल्पलाईन द्वारा पुलिसकर्मी की समस्याओं को सुनकर उनकी शिकायत का पंजीयन किया जावेगा एवं समस्या का निस्तारण कराना भी सुनिश्चित किया जावेगा।

अतिरिक्त महानिदेशक ने बताया कि हैल्पलाईन में निर्धारित प्रारूप में पुस्तिका का सन्धारण कर प्राप्त प्रत्येक षिकायत को अंकित कर तत्काल संबंधित जिला/युनिट प्रभारी के संज्ञान में लाया जायेगा। संबंधित जिला पुलिस अधीक्षक व पुलिस उपायुक्त द्वारा इस पुस्तिका का अवलोकन किया जायेगा तथा लम्बित शिकायतों के कारणों की जानकारी लेकर स्वयं के जिले से संबंधित समस्या का तत्काल समाधान किया जायेगा। अन्य जिला या युनिट से संबंधित होने पर संबंधित युनिट के प्रभारी से वार्ता कर समाधान करवाया जायेगा।