पैरेंट्स की मौजूदगी में 900 स्टूडेंट्स को मिला डिग्री का सम्मान, पूर्णिमा यूनिवर्सिटी का सातवां दीक्षांत समारोह आयोजित,,

532

जयपुर, 31 मार्च 2021।(निक शिक्षा) अपने पैरेंट्स की मौजूदगी में डिग्रियां प्राप्त किया जाना स्टूडेंट्स के लिए यादगार पल बन गया। बुधवार को यह अवसर था पूर्णिमा यूनिवर्सिटी की सातवें दीक्षांत समारोह का। राजस्थान के राज्यपाल श्री कलराज मिश्र समारोह के मुख्य अतिथि के रूप में वीड़ियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से कार्यक्रम से जुड़े। इस दौरान यूनिवर्सिटी के 900 स्टूडेंट्स को डिग्री प्रदान कर सम्मानित किया गया। इनमें 18 पीएचडी, 16 एमटेक, 113 एमबीए, 5 मास्टर ऑफ डिजाइन, 350 बीटेक, 83 बीबीए, 58 बीकॉम, 72 बैचलर ऑफ आर्किटेक्चर, 118 बीसीए, 34 बैचलर ऑफ डिजाइन, 16 बीएससी और 16 बीएफए की डिग्रियां शामिल थीं। इस अवसर पर यूनिवर्सिटी के चेयरपर्सन शशिकांत सिंघी भी उपस्थित थे।

इस दौरान इसरो के चेयरमेन डॉ. के. सिवन; डीएमआरसी के पूर्व एमडी डॉ. ई. श्रीधरन; एशिया पैसेफिक में एड्स पर पूर्व यूएन एसजी स्पेशल एन्वॉय जेवीआर प्रसादा राव और यूएस डिपार्टमेंट ऑफ वेटरन्स अफेयर्स के एपिडेमेलॉजिस्ट डॉ. ग्रेगरी वी. फेंट को पीएचडी की मानद डिग्री प्रदान की गई।

दीक्षांत समारोह के दौरान विभिन्न कोर्सेज के एकेडमिक अचीवर्स को गोल्ड व सिल्वर मैडल से सम्मानित किया गया। इस अवसर पर अंकित कुमार गुप्ता को चांसलर्स गोल्ड मैडल और अमित कुमार कुदाल को एसईएस गोल्ड मैडल प्रदान किया गया, जबकि गोविन्द कुमार माली व हरीश बब्बर को ले कॉर्बुजियर गोल्ड मैडल से सम्मानित किया गया। इनके अलावा 22 अन्य एकेडमिक टॉपर्स को गोल्ड व सिल्वर मैडल व कैश प्राइज प्रदान किए गए।

मुख्य अतिथि कलराज मिश्र ने कहा कि स्टूडेंट्स अपनी नॉलेज का समाज के सकारात्मक विकास के लिए उपयोग करें। वे कक्षा में जो भी नॉलेज प्राप्त करें उसे वे अपने व्यवहार में शामिल करें। शिक्षा का उद्देश्य सिर्फ डिग्री प्राप्त करना नहीं, बल्कि विद्यार्थी का संपूर्ण विकास करना होता है। उन्होंने आगे बताया कि सरकार द्वारा लागू की गई नई शिक्षा नीति स्टूडेंट्स के साथ—साथ राष्ट्र निर्माण की ओर ध्यान देती है।

पूर्णिमा यूनिवर्सिटी के चेयरपर्सन शशिकांत सिंघी ने डिग्री प्राप्त करने वाले सभी स्टूडेंट्स को उज्जवल भविष्य की शुभकामना देते हुए कहा कि अपने इनोवेशन के जरिए वे समाज में अहम योगदान दें। शुरुआत में यूनिवर्सिटी के प्रेसीडेंट डॉ.सुरेश चंद्र पाधे द्वारा स्वागत भाषण दिया गया और उन्होंने यूनिवर्सिटी की रिपोर्ट प्रस्तुत की। पूर्णिमा यूनिवर्सिटी की रजिस्ट्रार डॉ.चांदनी कृपलानी द्वारा धन्यवाद ज्ञापित किया गया।