कलमकार पुरस्कारों की घोषणा *नितिन यादव ‘कहानी’ और ए.एफ.नज़र ‘कविता’ श्रेणी में प्रथम* – बंकट बिहारी ‘पागल’ सम्मान पंखुरी सिन्हा को,,

531

जयपुर, 8 अगस्त 2020।(निक साहित्य) देश की अग्रणी साहित्य संस्था कलमकार मंच की ओर से राष्ट्रीय स्तर पर प्रतिवर्ष आयोजित की जाने वाली कलमकार पुरस्कार प्रतियोगिता के वर्ष 2019-20 के विजेताओं की घोषणा शनिवार को कलमकार मंच के राष्ट्रीय संयोजक निशांत मिश्रा, वरिष्ठ पत्रकार एवं साहित्यकार ईशमधु तलवार, प्रलेस के प्रदेशाध्यक्ष ऋतुराज, जितेन्द्र भाटिया, मुख्यमंत्री के विशेषाधिकारी फारूक आफरीदी और युवा साहित्यकार एवं कलमकार मंच की संस्थापक सदस्य उमा ने फेसबुक लाइव के जरिये की।
इस वर्ष कहानी एवं लघुकथा श्रेणी में प्रथम पुरस्कार अलवर जिले के नितिन यादव की कहानी ‘नोटा’ और गीत, ग़ज़ल, कविता श्रेणी में प्रथम पुरस्कार पिपलाई, सवाई माधोपुर के ए.एफ. नज़र लिखित ‘ग़ज़ल’ को दिया जाएगा। निर्णायक मंडल के निर्णय के अनुसार कहानी एवं लघुकथा श्रेणी में द्वितीय पुरस्कार देवास, मध्यप्रदेश की मीनाक्षी दुबे की कहानी ‘तरल’ और तृतीय पुरस्कार क्रमश: रांची, झारखंड की सारिका भूषण की लघुकथा ‘बोल्डनेस’, जयपुर के नरेन्द्र कुमार लाटा की कहानी ‘मुक्ति’, रायपुर, छत्तीसगढ़ की अर्चना अनुपम ‘चिलमन’ की लघुकथा ‘सूदखोर’ और बस्ती, उत्तर प्रदेश के देवेन्द्र कुमार श्रीवास्तव की लघुकथा ‘मानवता’ को दिया जाएगा। गीत, ग़ज़ल एवं कविता श्रेणी में द्वितीय पुरस्कार भीलवाड़ा, राजस्थान के मोहन पुरी की रचना ‘बोलो कब तुम गाँव चलोगे’ और तृतीय पुरस्कार क्रमश: जयपुर, राजस्थान की नूतन गुप्ता की रचना ‘सुक्खी की दाई’, देवास, मध्य प्रदेश की कविता नागर की रचना ‘बाँध’ और अजमेर, राजस्थान की मुन्नी शर्मा की ‘ग़ज़ल’ को दिया जाएगा। कविता श्रेणी में इस वर्ष से प्रारंभ किया गया बंकट बिहारी ‘पागल’ सम्मान मुज्जफरपुर, बिहार की पंखुरी सिन्हा को दिया जाएगा।
कलमकार मंच के राष्ट्रीय संयोजक निशांत मिश्रा ने बताया कि देश के रचनाकारों और उनकी रचनाओं को सम्मान और मंच उपलब्ध कराने के उद्देश्य से तीसरे कलमकार पुरस्कार-2019-20 के लिए राष्ट्रीय स्तर पर रचनाकारों से दो श्रेणियों रचनाएं आमंत्रित की गई थीं। देशभर से कहानी एवं लघुकथा श्रेणी में कुल 140 और गीत, कविता एवं ग़ज़ल श्रेणी में कुल 191 रचनाएं प्राप्त हुईं। टीम कलमकार की ओर से शॉर्टलिस्ट करने के बाद पुरस्कार के लिए श्रेष्ठ रचनाओं का चयन निर्णायक मंडल में शामिल देश के जाने माने साहित्यकारों ने किया। कहानी एवं लघुकथा श्रेणी में हबीब कैफी, दुर्गा प्रसाद अग्रवाल, प्रबोध गोविल, सुधांशु गुप्त, गजेन्द्र एस. श्रोत्रिय, तसनीम खान और भागचंद गुर्जर तथा गीत, कविता एवं ग़ज़ल श्रेणी में लीलाधर मंडलोई, लोकेश कुमार सिंह ‘साहिल’, मीठेश निर्मोही, विनोद पदरज, कैलाश मनहर, प्रदीप जिलवाने और उमा जैसे वरिष्ठ साहित्यकार निर्णायक मंडल में शामिल थे। उन्होंने बताया कि प्रथम, द्वितीय तथा तृतीय पुरस्कार के तहत क्रमश: 5100, 3100 और 2100 रुपए के साथ प्रमाण पत्र और ट्रॉफी दी जाएगी। वैश्विक आपदा कोरोना के कारण इस वर्ष समारोह आयोजित नहीं किया जाएगा। सभी विजेताओं को अगली प्रतियोगिता के विजताओं के साथ जयपुर में आयोजित होने वाले पुरस्कार वितरण समारोह में पुरस्कृत किया जाएगा।

प्रतियोगिता में चयनित और पुरस्कृत रचनाओं से सुसज्जित पत्रिका कलमकार के तीसरे अंक का विमोचन आगामी 23 अगस्त को एक लघु समारोह में किया जाएगा। इस अवसर पर कलमकार मंच की ओर से प्रकाशित देश के 26 लेखकों वरिष्ठ साहित्यकार ऋतुराज, चन्द्रभानु भारद्वाज, कुमार शिव (जस्टिस शिव कुमार शर्मा), रति सक्सेना, महेश कटारे, हबीब कैफ़ी, मनीष वैद्य, रियाज़ रहीम, प्रेमचंद गांधी, पंखुरी सिन्हा, सेवाराम त्रिपाठी, कलमकार मंच के राष्ट्रीय संयोजक निशांत मिश्रा, आरपीएससुनील प्रसाद शर्मा, मुकेश पोपली, कुसुम आचार्य, डॉ. लोकेन्द्र सिंह कोट, दिवाकर राय, डॉ. क्षमा सिसोदिया, ज्ञानवती सक्सेना, ज्योति विश्वकर्मा, भरत मल्हौत्रा, डॉ. रविन्द्र कुमार यादव, सुनीता बिश्नोलिया, प्रकाश प्रियम, शफ़्फ़ाफ़ जयपुरी (अलख सहगल) एवं डॉ. सुनीता घोगरा की किताबों का विमोचन भी प्रस्तावित है।