अभिभावकों की आवाज़ बना, राजस्थान अभिभावक संघ,, खटकाया सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा

1578

जयपुर 27 जून 2020।(निक शिक्षा)राजस्थान अभिभावक संघ राजस्थान समेत भारत के 08 राज्यों ने फीस मुद्दे को लेकर रिट पिटीशन सुप्रीम कोर्ट में दाखिल की जा चुकी है ।
लॉक डाउन के दौरान अभिभावकों को हो रही असुविधा एवं बच्चों की सुरक्षा को देखते हुए संपूर्ण देश मे निजी स्कूलों की मनमानियों के विरुद्ध अभिभावकों एवं अभिभावक संघों द्वारा आवाज उठाई जा रही है राजस्थान भी इस से अछूता नही है |
प्राइवेट स्कूल्ज के आचरण से और राज्य सरकारों द्वारा पेरेंट्स को फीस में उचित राहत न दे पाने की वजह से असंतुष्ट होकर राजस्थान अभिभावक संघ समेत 08 राज्यो ने सुप्रीम कोर्ट मे रिट पिटीशन संख्या 13366/2020 डाली है

राजस्थान अभिभावक संघ प्रमुख सुशील शर्मा ने बताया है की हमने इसे दाखिल करने के लिए पिछले 2 महीनों से अधिक समय तक काम किया है । स्कूल की फीस के लिए माता-पिता का उत्पीड़न और वर्तमान COVID19 महामारी में उनकी पीड़ा ने हमें इस रिट को दाखिल करने पर विवश किया है ।

*रिट की मुख्य प्रार्थना है*: 3 महीने के लिए या ऑफ़लाइन / नियमित कक्षाओं के शुरू होने तक स्कूल फी और अन्य शुल्क माफ़ किये जाये ।

इसके साथ तीन अंतरिम याचिकाएं भी दायर की गई हैं

1. जब तक कोरोना का एक प्रभावी उपाय नहीं निकलता है, तब तक स्कूल को ना खोला जाये |

2. विशिष्ट एसओपी माननीय सर्वोच्च न्यायालय द्वारा निर्धारित किए जाने तक ऑनलाइन कक्षाएं पर रोक लगे ।

3. जब तक कि सुप्रीम कोर्ट इस बारे में फैसला नहीं करता तब तक किसी भी आधार पर – जिसमें फीस का भुगतान न करना भी शामिल है – कोई भी स्कूल छात्रों को निष्कासित न कर पाए |

अब याचिकाकर्ता 08 राज्यों समेत देश भर के अभिभावकों की निगाह सुप्रीम कोर्ट की सुनवाई और फैसले पर टिकी हुई हैं क्योंकि सभी राज्यों की हाई कोर्ट के निर्णय से आहत होकर ही माननीय उच्चतम न्यायालय की शरण ली है ।
माननीय सुप्रीम कोर्ट मे निम्नलिखित राज्यों द्वारा सँयुक्त रिट पिटीशन लगाई गयी है –

*1- राजस्थान*
*2- गुजरात*
*3- उड़ीसा*
*4- पंजाब*
*5-उत्तराखंड*
*6- हरियाणा*
*7- महाराष्ट्र*
*8-दिल्ली*