*रामगढ़ शेखावाटी में ‘वेदारण्य हेरिटेज एंड हीलिंग फेस्टिवल‘ का होगा आयोजन*

559

रामगढ़ शेखावाटी में 17 से 19 जनवरी को होगा आयोजन
— राजस्थान पर्यटन विभाग के सहयोग से श्रुति फाउंडेशन द्वारा आयोजित

    जयपुर 10 जनवरी:2020.(निक कल्चर) राजस्थान सरकार के पर्यटन, कला एवं संस्कृति मंत्रालय तथा श्रुति फाउंडेशन द्वारा मिलकर दिसंबर 2016 में वेदारण्य हेरिटेज एंड हीलिंग फेस्टिवल (वीएचएएच) की शुरूआत की गई थी। यह फेस्टिवल रामगढ़ शेखावाटी में 17 से 19 जनवरी को आयोजित किया जाएगा। यह फेस्टिवल के इस चौथे वार्षिक संस्करण में उत्तरी आयरलैंड की आर्ट्स काउंसिल का सहयोग भी प्राप्त हुआ है। वीएचएएच फेस्टिवल की संयोजक, सुश्री श्रुति पोद्दार ने आज जयपुर में आयोजित एक संवाददाता सम्मेलन में यह जानकारी दी।
    पोद्दार ने आगे जानकारी दी कि फेस्टिवल में भारत व अन्य देशों के 50 नामी कलाकार, विचारक, डॉक्टर, डिजाइनर, उद्यमी, सरकार एवं संस्थाओं के प्रमुख तथा सैकड़ों वैश्विक एवं स्थानीय प्रतिभागी शामिल होकर सेलीब्रेट करेंगे और सिखेंगे। इस फेस्टिवल के दौरान इस शहर की खास विशिष्टता को भी सेलीब्रेट किया जाएगा। उन्होंने आगे बताया कि हेरिटेज इंडिया साइक्लोथोन का दूसरा संस्करण 1 और 2 फरवरी को रामगढ़ में आयोजित किया जाएगा।

    इस अवसर पर अतिरिक्त निदेशक पर्यटन, डॉ. मनीषा अरोड़ा; फेस्टिवल आयोजन समिति के सदस्य सुनील गुप्ता और संयुक्त निदेशक पर्यटन,आनंद त्रिपाठी भी उपस्थित थे।

    इसमें शामिल होने के लिए जिन कलाकारों की ओर से पुष्टि की जा चुकी है, वे हैं – पद्मश्री गीता चंद्रन, प्रसिद्ध कलाकार मधुप मुद्गल, पुंगचोलम – अग्नि के साथ शानदार कलाबाजियां, मांगणियार एवं कालबेलिया नर्तक, प्रसिद्ध ‘कबीर कैफे‘, प्रसिद्ध राजस्थानी इतिहासकार डॉ. रीमा हूजा, इन्डिजिनस नॉलेज सिस्टम के लिए विश्व प्रसिद्ध क्लॉड अल्वारिस, उत्तरी आयरलैंड के जेसन ओरोर्के, आदि। इनके अलावा डॉ. रीमा हूजा, एम्बेसेडर वीणा सीकरी जैसे वक्ता, विभिन्न सरकारी अधिकारी, विश्व प्रसिद्ध हीलर, मेंटोर, भारतीय मेडिसन एक्सपर्ट, क्राफ्ट एक्सपर्ट एवं कई शिक्षाविद भी इसमें शामिल हो रहे हैं। फेस्टिवल के तहत क्रिएटिव लर्निंग, दुर्लभ हीलिंग तकनीकों, वैदिक चैटिंग, आयुर्वेदिक क्रीम बनाने, एनर्जी हीलिंग, योगा, रग्स बुनाई, अनूठी कुजीन बनाने जैसे विभिन्न विषयों पर वर्कशॉप आयोजित की जाएगी।

    *वीएचएएच फेस्ट 2020 की संरचना इस प्रकार हैः*
    1. कलाकारी अड्डे (क्राफ्ट कॉर्नर)ः दरी बुनाई, पॉटरी, लाख की चूड़ियां बनाना, मेहंदी एवं अन्य स्थानीय शिल्प कौशल सीखना।

    2. हुनर शालाएं (लर्निंग वर्कशॉप्स)ः आयुर्वेदिक सॉल्यूशंस, योगा, वाइब्रेशनल हीलिंग, खाना-बाना – हीलिंग ब्रेड बनाना सीखना, लाइम टेक्नोलॉजी से रेस्टोरेशन, आर्किटेक्चरल हेरिटेज प्रेक्टिसेज, न्यूट्रिशन (हीलिंग के लिए उपयुक्त भोजन)।

    3. विचार बैठकें (इंटरेक्टिव सैशन)ः ‘हेरिटेज एंड हीलिंगः इंटरकनेक्शंस‘ पर पैनल डिस्कशन, डॉ. रीमा हूजा के साथ शेखावाटी की हिस्ट्री और वन्डर्स पर चर्चा, इन्डिजिनस नॉलेज पर क्लॉड अल्वारिस के साथ वार्ता, रवि गुलाटी के साथ हीलिंग विद लर्निंग पर सैशन, आदि।

    *शाम को होंगे सांस्कृतिक कार्यक्रमः*
    फेस्टिवल के दौरान शाम को सम्पूर्ण भारत व विदेशों के प्रसिद्ध कलाकारों द्वारा एकल और समूह प्रस्तुतियां दी जाएगी। इसके साथ ही राजस्थानी कलाकारों द्वारा भी कल्चरल कार्यक्रम प्रस्तुत किए जाएंगे।

    इस फेस्टिवल के आयोजन का मुख्य उद्देश्य मेट्रो सिटीज् से परे जाकर शेखावाटी क्षेत्र की विरासत का अहसास कराना, विशेष रूप से शेखावाटी क्षेत्र की सबसे प्रमुख हेरिटेज सिटी रामगढ़ को खंडहर होने से बचाना, वेलनेस एवं यहां के आश्चर्यजनक एवं अनूठे अनुभवों के जरिए शेखावाटी के बारे में वैश्विक जागरूकता लाना है।

    फेस्टिवल में भारतीय संस्कृति एवं परंपराओं से जुड़ी पद्मविभूषण सोनल मानसिंह, पद्मभूषण राजन साजन मिश्र, पद्मश्री शुभा मुद्गल, पद्मश्री डॉ. शोवना नारायण पद्मश्री डॉ. गीता चंद्रन, बाउल की प्रतिपादक पार्वती, विश्व प्रसिद्ध पर्कश्निस्ट तौफीक कुरैशी तथा गणित एवं अन्य विषयों के विशेषज्ञ शामिल हो चुकें है। यही नहीं, राजस्थान के मांगणियार, लंगा, कालबेलिया नर्तकों द्वारा स्थानीय संस्कृति तथा अन्य कलाकारों द्वारा स्थानीय शिल्प एवं कला को बढ़ावा दिया जाता है।

    वीएचएएच फेस्टिवल द्वारा रामगढ़ शेखावाटी में हेरिटेज, क्रिएटिव व वेलनेस टूरिज्म को प्रोत्साहन दिया जा रहा है। रचनात्मकता एवं नवाचार के साथ-साथ श्रेष्ठ भारतीय कलाओं एवं सांस्कृतिक विरासत से भरपूर इस फेस्टिवल में स्थानीय एवं वैश्विक प्रतिभागियों की समान भागीदारी होगी।

    ===============================================