19 दिसंबर से 22 दिसंबर तक आयोजित होगा जेजेएस 2020 –इसी वादे के साथ हुआ 16वें संस्करण का समापन, ज्वैलरी मेकिंग मशीन एवं टेक्नॉलॉजी का हुआ प्रदर्शन — विभिन्न संस्थानों द्वारा जैमोलॉजी एवं ज्वैलरी डिजाइन कोर्सेज की दी गई जानकारी — आदर्श नगर विधायक,रफीक खान एवं ट्रांसपोर्ट कमिश्नर एवं सेक्रेटरी, राजेश के. यादव थे समापन समारोह के अतिथि , चार दिनों में 40,000 से अधिक आगंतुकों ने की विजिट*

217

जयपुर, 23 दिसंबर 2019।(निक वाणिज्य) सीतापुरा के जेईसीसी में जयपुर ज्वैलरी शो (जेजेएस) के 16वें संस्करण का सोमवार को समापन हुआ।
दिसंबर शो के नाम से प्रसिद्ध इस शो में चार दिनों के दौरान 40,000 से अधिक ट्रेड विजिटर्स, बायर्स, रिटेलर्स, ज्वैलरी डिजाइनिंग के स्टूडेंस एवं अन्य आगंतुकों ने विजिट किया। जेजेएस के आगामी 17वां संस्करण 19 दिसंबर से 22 दिसंबर, 2020 में भाग लेने के लिए जैम एवं ज्वैलरी एग्जीबिटर्स ने अभी से सकारात्मक रूझान दिखाया है। जेजेएस के चेयरमेन, विमल चंद सुराणा ने यह जानकारी दी।

समापन समारोह के अतिथियों में आदर्श नगर विधायक, रफीक खान एवं राजस्थान सरकार में ट्रांसपोर्ट विभाग के कमिश्नर एवं सेक्रेटरी, राजेश के. यादव थे। रफीक खान ने कहा कि इस टेªड के लिए जैम बोर्स अत्यंत आवश्यक है और इसकी स्थापना के लिए वे इंडस्ट्री का प्रतिनिधित्व करने के लिए तत्पर है। उन्होंने सुझाव दिया कि इस जैम बोर्स की स्थापना के लिए आगरा रोड़ सबसे उपयुक्त स्थान है। सभी की तालियों के बीच उन्होंने कहा कि ज्वैलरी उद्योग ने जयपुर में मिलियन लोगों को रोजगार प्रदान किया है और यह इस शहर के व्यापार की लाईफलाईन है।

इस अवसर पर राजेश यादव ने कहा कि ज्वैलरी इंडस्ट्री को फिर से शहर में जैम बोर्स की स्थापना के लिए प्रयास करने चाहिए। उन्होंने ज्वैलरी टेªड से यह भी आग्रह किया कि वे व्यापारिक आंकड़़ों का खुलासा करें ताकि इस उद्योग के आयाम का पता चल सके और इसके आयोजन में सरकार की सहायता और भागीदारी भी हो सके।

जेजेएस के सचिव राजीव जैन ने कहा कि जेजेएस देश का सबसे बड़ा शो बन गया है। इस वर्ष शो में 500 से अधिक टॉप रिटेलर्स और 800 से अधिक बूथ्स लगे थे। जेजेएस में इस वर्ष के डिजाइन बूथ्स के डेकोरेशन, आर्ट वर्क एवं क्रियेटिविटी उल्लेखनीय रूप से अनूठे रहें हैं, जिसकी सभी विजिटर्स ने प्रशंसा की है। इस वर्ष जेजेएस से इंडोलॉजी लाईव टीवी को सफलतापूर्वक जोड़ा गया। यह प्रथम अवसर है जब विश्व में किसी ज्वैलरी एग्जीबिशन के दौरान लाईव टीवी के माध्यम से ज्वैलरी सीधे उपभोक्ताओं को बेची गई।

जेजेएस के मीडिया कॉर्डिनेटर, अजय काला ने समापन समारोह का संचालन किया। इस अवसर पर उन्होंने बेस्ट बूथ अवार्ड्स के जूरी सदस्यों का आभार भी व्यक्त किया।

डेली रैफल व बंपर ड्राः
जेजेएस के समापन समारोह के अतिथि रफीक खान द्वारा जेजेएस के चौथे दिन का डेली ड्रा एवं बंपर ड्रा निकाला गया। उन्होंने शिवम टाक को डेली ड्रा का विजेता घोषित किया। इसी प्रकार बम्पर ड्रा की विजेता सुश्री लक्षिता अग्रवाल रहे। जेजेएस द्वारा डेली रैफल ड्रा एवं बंपर ड्रा प्रायोजित किया गया। उल्लेखनीय कि शो के प्रथम दिन के डेली रैफल ड्रॉ का पुरस्कार सुश्री सीमा जैन ने जीता, जबकि दूसरे एवं तृतीय दिन के विजेता क्रमशः रवींद्र कुमार द्रोण एवं सुश्री मीनाक्षी सोनी को घोषित किया गया था।

ज्वैलरी मेकिंग मशीनरीः
ज्वैलरी डिजाइन एवं मैन्यूफैक्चरिंग प्रोसेस को बेहतर बनाने में तकनीक की भूमिका को देखते हुए जेजेएस में गत वर्षों के संस्करणों की तरह इस बार भी अनेक नवीन एवं अनूठी तकनीकें प्रदर्शित की गई। इसके तहत यहां थ्रीडी प्रिंटिंग, डिजाइनिंग, कास्टिंग, फिनिशिंग, लेजर वेल्डिंग, बॉल मेकिंग, लेजर मार्किंग एवं सोल्डरिंग की विभिन्न मशीनें उपलब्ध थी। इसी प्रकार ज्वैलरी प्लेटिंग मशीन, इनेमलिंग, ट्रांसपेरेंट एवं कलर कोटिंग एवं ज्वैलरी फिनिशिंग की अन्य मशीनें भी प्रदर्शित की गई। प्रोडक्ट फोटोग्राफी के लिए फोटो लेने एवं थ्रीडी फोटोज के लिए प्रदर्शित किया गया एक विशेष ‘फोटो स्फियर‘ इस बार के शो का मुख्य आकर्षण रहा।

जेमोलॉजी एंड ज्वैलरी डिजाइन कोर्स और ट्रेड पब्लिकेशनः
जेजेएस में द जेमोलॉजिकल इंस्टीट्यूट ऑफ अमेरिका, इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ जेम्स एंड ज्वैलरी, जेम एंड ज्वैलरी स्किल काउंसिल ऑफ इंडिया जैसे जेमोलॉजी एवं ज्वैलरी डिजाइन संस्थानों की ओर से भी स्टॉल लगाए गए। इसके द्वारा ज्वैलरी, जेमस्टोन्स एवं कलर जेमस्टोन्स एशेन्शियल्स से संबंधित अपने विभिन्न कोर्सेज के बारे में जानकारी दी गई। ज्वैलरी के शौकीनों, डिजाइनरों व स्टूडेंट्स द्वारा ज्वैलरी, मिनरल्स, इनैमल्स व मैटल्स पर आधारित पुस्तकों जैसे व्यावसायिक प्रकाशनों में गहरी दिलचस्पी देखने को मिली।

वेण्डर अवॉर्डः
गत वर्षों की तरह इस बार के जेजेएस की सफलता में अपना सहयोग देने वाले लगभग 44 वेंडर्स को सम्मानित किया गया। इसके तहत रफीक खान,राजेश के. यादव, विमल चंद सुराणा, राजीव जैन द्वारा ये प्रशंसा पत्र प्रदान किये गये।