विश्व मधुमेह दिवस एवं बाल दिवस के इस मौके पर बच्चों ने किया वृक्षारोपण एवं “फ्लाइट ऑफ जॉय” मस्ती भरे कार्यक्रम के माध्यम से ऑरिगेमी कलाकृतियों बना कल्पनाओं को दिए पंख * फोर्टिस अस्पताल* की अनूठी पहल

475

* बच्चों में बचपन से ही स्वास्थ्य जीवन शैली अपनाने के लिए प्रोत्साहित करने के उद्देश्य से डॉ. मनोज खंडेलवाल मधुमेह एवं एंडोक्रिनोलॉजी विशेषज्ञ,जयपुर ने बच्चों के लिए एक सत्र के माध्यम से मधुमेह एवं आदर्श जीवन शैली की जानकारी दी|
* बच्चों ने पेंटिंग के जरिए मधुमेह एवं स्वास्थ्य संबंधी संदेश दिए|
* बाल दिवस के उपलक्ष्य में फोर्टिस, मेन्टल हेल्थ विभाग द्वारा बच्चों की रचनात्मकता को निखारने व दिलचस्प तरीको से सीखने की क्षमता को बेहतर बनाने के लिए कार्यक्रम फ्लाइट ऑफ जॉय का आयोजन किया गया |
जयपुर,15 नवम्बर2019।(निक चिकित्सा) आप जितनी भी जगहोँ के बारे में सोच सकते हैं उनमेँ से हॉस्पिटल एक ऐसी जगह है जहाँ जाने में किसी भी बच्चे को खुशी नहीं होती है। बावजूद इसके ऐसे कई मौके आ जाते हैं जब बच्चे को हॉस्पिटल जाना ही पडता है।
फोर्टिस एस्कॉर्ट्स हॉस्पिटल, जयपुर ने ‘बाल दिवस’ के मौके पर हॉस्पिटल में बच्चोँ के लिए आर्ट थेरेपी कार्यक्रम का आयोजन किया, जिसमेँ इन-पेशेंट, आउट पेशंट विभाग, मुख्य लॉबी और क्रेच भी शामिल था।
जाने-माने मनोचिकित्सक डॉ. समीर पारिख, जो कि फोर्टिस हॉस्पिटल के मेंटल हेल्थ एंड बिहेवियरल साइंसेज विभाग के डायरेक्टर भी हैं, की अगुवाई में विभाग ने ‘फ्लाइट ऑफ ज्वाय’ नामक इस देशव्यापी कार्यक्रम की रूपरेखा तैयार की। कार्यक्रम का आयोजन जयपुर में किया गया।
विश्व मधुमेह दिवस के अवसर पर बच्चों को स्वस्थ एवं अनुशासित जीवनशैली के प्रति प्रोत्साहित करने के उद्देश्य से डॉ. मनोज खंडेलवाल, मधुमेह एवं एंडोक्रिनोलॉजी विशेषज्ञ, फोर्टिस हॉस्पिटल जयपुर ने एक शैक्षणिक सत्र के माध्यम से स्वास्थ्य संबंधी जानकारी दी इस सत्र में बच्चों को संतुलित आहार, व्यायाम के महत्व एवं शुद्ध वातावरण के लाभ बताए गए| शुद्ध वातावरण में ही स्वस्थ जीवन की संभावना को मध्य नजर रखते हुए बच्चों द्वारा वृक्षारोपण का कार्यक्रम आयोजन किया गया| इसी कड़ी को आगे बढ़ाते हुए मधुमेह के प्रति एक जागरूकता रैली का आयोजन भी किया जा रहा है जिसमें 50 से अधिक स्कूली विद्यार्थी भाग लेंगे | यह रैली फोर्टिस हॉस्पिटल से प्रारंभ होकर जवाहर सर्किल तक आयोजित की जाएगी कार्यक्रम के अंतर्गत ओपीडी एवं आईपीडी सहित कई बच्चों ने पेंटिंग के माध्यम से कई स्वास्थ्य संबंधी संदेश दिए गए|

हेल्थ एंड बिहेवियरल साइंसेज, फोर्टिस एस्कॉर्ट्स हॉस्पिटल, जयपुर के डायरेक्टर एवम एचओडी डॉ. समीर पारिख कहते हैं, “हमारे बच्चे हमारा भविष्य हैं। बच्चोँ के लिए हॉस्पिटल आना आमतौर पर तनावपूर्ण ही होता है, क्योंकि या तो वे किसी बीमार रिश्तेदार से मिलने के लिए यहाँ आते हैं अथवा जब वे खुद बीमार होते हैं तब आते हैं। इस कार्यक्रम का उद्देश्य बच्चोँ के दिमाग से उस तनाव से दूर कर उनकी रचनात्मकता को बाहर निकालना है और मुझे पूरा यकीन है कि हम ऐसा कर पाने में सफल भी हुए हैं। आज के कार्यक्रम में काफी बच्चोँ ने हिस्सा लिया और हमने देखा कि बच्चे किस प्रकार से मुक्त भाव से अपनी कल्पना को कागज के पन्नोँ के जरिए जीवंत कर रहे थे। कागज से बनी चिडियोँ, तितलियोँ और जहाज से पूरा हॉस्पिटल भर गया था और इस सबके साथ यहाँ का नजारा आज पूरी तरह से अलग दिखाई दे रहा था। इस खूबसूरत नजारे को जीने का अवसर हमेँ उपलब्ध कराने के लिए हम सभी बच्चोँ को धन्यवाद देते हैं।“

  • कार्यक्रम की शुरुआत सुबह 10 बजे हुई और इसका समापन शाम 4 बजे तब हुआ जब बच्चोँ का मन भर गया। हॉस्पिटल में बच्चोँ के लिए ‘ऑल फ्लाई ज़ोन’ बनाया गया था जहाँ बच्चोँ ने कागज की रचनाएँ बनाईँ और इन्हेँ उडाकर अपनी कल्पनाओँ को पंख लगाकर उडान भरने के लिए छोड दिया। इसके बाद सभी बच्चोँ को कार्यक्रम के साथ जुडने और इसमेँ शामिल होने के लिए आमंत्रित किया गया। अस्पताल में भर्ती बच्चे ‘फ्लाइट स्टैंड’ देखकर फूले नहीं समा रहे थे। यह एक क्रिएटिव ज़ोन था जहाँ चिडियाँ उनके और उनके परिवार जनोँ के आस-पास उड रही थीँ और उडकर उनके कमरोँ तक पहुंच रही थीँ।