डॉ ध्यान सिंह गोठवाल ने 45 सूत्रीय विकास कार्यों के सम्बंध में मीडिया से चर्चा की,,,

141

सरकार द्वारा शिक्षा व्यवस्था में अभूतपूर्व निर्णयों सें शिक्षकों में खुशी का माहौल,,,,,,,

जयपुर। 03 जून 2019। (निक राजनीतिक) राजस्थान शिक्षक कांग्रेस एंव राजीव गांधी स्टडी सर्कल जयपुर माननीय मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के नेतृत्व में शिक्षा विभाग में किये गये जन आकांक्षाओं के अनुरूप ऐतिहासिक फैसलों की क्रियान्विति पर राजस्थान शिक्षक कांग्रेस आपकी आभारी है। वर्तमान कांग्रेस सरकार कें सत्ता में आतें ही शिक्षा व्यवस्था को लेकर सर्वोच्च प्राथमिकता के साथ प्रदेश की जनता एंव शिक्षकों के हित में बहुत ही त्वरित गति से कार्य प्रारम्भ किये गये है, जिनका मुख्य उदेष्य प्रदेश में शिक्षा में नवाचारों के माध्यम से शिक्षा की गुणवत्ता में वृद्वि करना है।
राजस्थान शिक्षक कांग्रेस के अध्यक्ष बी.एल.सैनी एंव राजीव गांधी स्टडी सर्कल जयपुर के डॉ. ध्यान सिंह गोठवाल नें प्रेस कांफ्रेस में सरकार द्वारा किये जा रहें 45 सूत्रीय विकास कार्यो कें सम्बन्ध में मीडिया से चर्चा की।
राजस्थान शिक्षक कांग्रेस के अध्यक्ष बी.एल.सैनी एंव राजीव गांधी स्टडी सर्कल जयपुर के डॉ. ध्यान सिंह गोठवाल नें मीडिया से बातचीत करतें हुये शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा की सकारात्मक सोच का आभार व्यक्त करतें हुये बताया कि विधालयों में शिक्षकों की मांग के अनुसार विधालयों के समय में कमी करतें हुये षिक्षकों एंव विधार्थियों को राहत दी है, पिछली सरकार में 5 वर्ष तक कई आंदोलन किये गये लेकिन सरकार नें अपनी हठधर्मिता के कारण विधालयों के समय में कमी नहीं की। वर्तमान सरकार नें तीन लाख शिक्षकों को आवासीय प्रशिक्षकों से राहत देतें हुये बताया कि अब ग्रीष्मकालीन अवकाश एंव आवासीय प्रशिक्षक शिविर आयोजित नहीं होगें क्योंकि इन शिविरों में शिक्षकगण तनावग्रस्त रहतें थे और सरकारी जन एंव धन का दुरूपयोग भी होता था, इसलिये सरकारी धन की बचत के साथ शिक्षकों को आवासीय प्रशिक्षकों से राहत दी है। इसी प्रकार सरकार नें शैक्षिक कैलेण्डर में परिवर्तन कर शिक्षा सत्र एक जुलाई से प्रारम्भ किया गया है एंव शीतकालीन छुट्टियां सात दिवस करनें से छात्रों एंव अभिभावकों एंव शिक्षकों में खुशी का माहौल है। शिक्षक कई वर्षो सें इस बदलाव की मांग कर रहे थे, जो माननीय मुख्यमंत्री जी एंव शिक्षा मंत्री जी नें बिना आंदोलन के संगठन की मांग पर राहत प्रदान की हैं। साथ ही मुख्यमंत्री नें जिला मुख्यालय पर अंग्रेजी माध्यम सें सरकारी विधालय प्रारम्भ करनें का तोहफा दिया है।
स्टेट ओपन स्कूल में एकलव्य और मीरा पुरस्कार की राशि को जिला एंव राज्य स्तर पर बढानें संबधी घोषणा, इदिंरा प्रियदर्शनी पुरस्कार की राशि 3 गुणा बढानें, आपकी बेटी योजना की राशि में वृद्वि, मॉडल स्कूलों एंव कस्तूरबा गंाधी विधालयों में रिक्त स्थानों पर त्वरित गति से प्रतिनियुक्ति, देश के प्रथम राजीव गांधी कैरियर गाइडेंस पोर्टल का लोकापर्ण आदि कार्यक्रमों युवाओं सें कैरियर के लिये सही सोच एंव दिशा दी जा सकेगी। सार्वजनिक बालसभाओं द्वारा शिक्षक, शिक्षार्थियों एंव अभिभावकों की जनसहभागिता नांमाकन वृद्वि की दिशा में एक महत्वपूर्ण मील का पत्थर साबित होगी।
षिक्षा में गुणात्मक सुधार हेतु प्री बोर्ड परीक्षाओं की पहल एंव विषेष अतिरिक्त कक्षाओं के आयोजन किया गया जिससें परिणामों में 6.83 प्रतिशत की वृद्वि हुई।
अध्यापक लेवल प्रथम एंव द्वितीय के पदों की माननीय न्यायालय में पैरवी कर नियुक्ति प्रदान की गई। यूनिसेफ के सहयोग से सी.एस.आर कॉन्कलेव आयोजित कर कॉर्पोरेट सेक्टर्स को जोडनें का प्रभावी प्रयास किया गया है। खेल एंव पुस्तकालयों के लिये विशेष बजट का आंवटन करनें के साथ छात्रवृतियों की राशि में भी बढोतरी की गई है। इसके साथ ही देश में पहली बार पुलवामा सहित अन्य शहीदों की शोर्यगाथा को पाठ्यक्रम में जोडा गया है ताकि प्रदेश के स्कूली बच्चें शहीदों की शौर्यगाथा को पढतें हुये देशहित में सकारात्मक सोच को बढावा दे सकें। अतंराष्ट्रीय महिला दिवस पर शिक्षिकाओं को प्रोत्साहित करनें हेतु शिक्षक सम्मान में 33 प्रतिशत करकें विशेष भागीदारी की घोषणा करीं। आगामी 28 जून को भामाषाह सम्मान सामारोह में शिक्षा विभूषण एंव शिक्षा भूषण नामक सम्मान दिये जानें के निर्देश दिये गये है।