सिटी पैलेस में राजकुमारी गौरवी कुमारी ने ★सांस्कृतिक विरासत प्रशिक्षण शिविर★ का किया शुभारंभ,,21 जून को होगा समापन

1724

*पारम्परिक चित्रकला, मांडणा, अलगोजा वादन, गिटार,*
*फोटोग्राफी, गायन, लोक गीत, कथक,*
*बच्चों को वितरित किये परिंडे एवं पौधे*

*राजकुमारी गौरवी कुमारी ने सिटी पैलेस में ‘सांस्कृतिक विरासत प्रशिक्षण शिविर‘ का किया उद्घाटन*

*जयपुर,1 जूनः2019।(निक सांस्कृतिक) महाराजा सवाई मानसिंह द्वितीय संग्रहालय (एमएसएमएस द्वितीय संग्रहालय), रंगरीत ऑर्ट स्कूल एवं सरस्वती कला केन्द्र के संयुक्त तत्वावधान में सिटी पैलेस म्यूजियम में आज ‘सांस्कृतिक विरासत प्रशिक्षण शिविर‘ का शुभारम्भ हुआ। 21 दिन चलने वाले इस निःशुल्क ग्रीष्मकालीन प्रशिक्षण शिविर का उद्घाटन राजुकमारी गौरवी कुमारी द्वारा किया गया। इस अवसर पर उन्होंने शिविर में प्रशिक्षण प्रदान करने वाले कलाकारों को सम्मानित किया और पर्यावरण एवं वन्य पक्षियों के प्रति जागरूकता लाने के लिये प्रतिभागी बच्चों को परिंडे एवं पौधे वितरित किये। इसके पश्चात् राजकुमारी ने शिविर में प्रदर्शित विभिन्न पारम्परिक शैलियों पर आधारित पेटिंग्स का अवलोकन भी किया।

इस अवसर पर एमएसएमएस द्वितीय संग्रहालय की एग्जीक्यूटिव ट्रस्टी, रमा दत्त ने बताया कि युवाओं को प्राचीन एवं समृद्ध लोक परम्पराओं से रूबरू कराने के उद्देश्य से प्रत्येक वर्ष सिटी पैलेस में शिविर लगाया जाता है। इस शिविर में बच्चें पारम्परिक चित्रकला, मांडणा, अलगोजा वादन, गिटार, आदि कलाएं सीखेंगे।

इस शिविर में पारम्परिक चित्रकला (रामू रामदेव,श्यामू रामदेव, हेमन्त रामदेव, बाबूलाल मारोटिया एवं बद्रीनारायण मारोटिया); मांडणा (लक्ष्मीनारायण कुमावत); लोक गीत एवं कत्थक (डॉ. ज्योति भारती गोस्वामी); लोकवाद्य अलगोजा एवं बांसुरी (आर.डी. गौड़); गायन (अहमद हुसैन एवं मोहम्मद हुसैन); गिटार वादन (रहमान हरफनमौला) और फोटोग्राफी (योगेन्द्र गुप्ता) का प्रशिक्षण दिया जायेगा।
========================================