कृष्णा पूनिया ने भरी हुंकार,,राठौड़ को बताया फेल

781

जयपुर ग्रामीण लोकसभा सीट से आज नामांकन भरा कृष्णा पूनिया ने

जयपुर 15 अप्रैल 2019।(निक राजनीतिक)जयपुर ग्रामीण लोकसभा क्षेत्र की कांग्रेस प्रत्याशी डॉ. कृष्णा पूनिया ने नामांकन के बाद सीकर रोड स्थित होटल आपणो राजस्थान मेंं नामांकन सभा को सम्बोधित किया ।
नामांकन सभा में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट, कांग्रेस प्रभारी अविनाश पांडेय, सह प्रभारी देवेंद्र यादव व विवेक बंसल, जयपुर ग्रामीण लोकसभा सीट के प्रभारी मंत्री शांति धारीवाल, चुनाव अभियान समिति के प्रमुख व स्वास्थ्य मंत्री डॉ. रघु शर्मा, कृषिमंत्री लालचंद कटारिया, परिवहन मंत्री प्रतापसिंह खाचरियावास, जयपुर ग्रामीण जिलाध्यक्ष एवं मोटर गैराज मंत्री राजेंद्र यादव, पूर्व मंत्री बृजकिशोर शर्मा, बानसूर विधायक शकुंतला रावत, जमवारामगढ़ विधायक गोपाल मीणा, विराटनगर विधायक इंद्राज गुर्जर, शाहपुरा विधायक आलोक बेनीवाल, विधानसभा चुनाव में शाहपुरा से कांग्रेस प्रत्याशी रहे मनीष यादव, फुलेरा प्रत्याशी विद्याधर सिंह व आमेर प्रत्याशी रहे प्रशांत शर्मा सहित प्रदेश के सभी बडेÞ नेता व जयपुर ग्रामीण लोकसभा सीट के कांग्रेस कार्यकर्ता मौजूद रहेंगे।

सांसद के तौर पर विफल रहे हैं राठौड़

सार्दुलपुर विधायक डॉ. कृष्णा पूनिया ने आरोप लगाया है कि जयपुर ग्रामीण लोकसभा सीट के भाजपा प्रत्याशी व वर्तमान सांसद व केंद्रीय मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौड़ क्षेत्र की जनता की उम्मीदों पर खरे नहीं उतरे हैं। पिछले मैं जहां भी गई, वहां सभी ने मुझसे यह शिकायत करी कि राठौड़ ने क्षेत्रीय जनता से सिर्फ झूठे वादे किए हैं। उनकी उदासीनता का हाल यह है कि वो क्षेत्र के विकास के लिए मिलने वाली सांसद निधि का पैसा भी पूरा नहीं खर्च कर पाए हैं। 2014 लोकसभा चुनाव के दौरान उन्होंने एनएच-8 की दुर्दशा को सुधारने का वादा किया था, लेकिन शाहपुरा व कोटपूतली में जगह-जगह उखड़ा राजमार्ग अपनी दुर्दशा स्वयं बयान कर रहा है। केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्री ने कई बार कहा कि वो इस राजमार्ग को इतना चमन कर देंगे कि जयपुर से दिल्ली जाने वाले यात्रियों के पेट का पानी भी नहीं हिलेगा पर उनका वादा भी प्रधानमंत्री मोदी की तरह चुनावी जुमला ही साबित हुआ। राजमार्ग में खामियों के चलते आए दिन दुर्घटनाएं होती रहती हैं। पिछले पांच सालों में हजारों लोग मौत के मुंह में समा चुके हैं और इसके लिए राठौड़ सहित पूरी केंद्र सरकार जिम्मेदार है।

राठौड़ जब यहां से सांसद व खेलमंत्री बने तो लोगों को बहुत उम्मीदें थीं, लेकिन जयपुर ग्रामीण सहित पूरे प्रदेश को निराशा ही हाथ लगी। न ही वो खेलमंत्री के तौर पर कोई काम करवा पाए और न ही सांसद के तौर पर लोगों के दुख-दर्द में काम आए। सांसद चुने जाने पर राठौड़ ने वादा किया था कि रामगढ़ बांध से जयपुर ग्रामीण की जनता की प्यास बुझाई जाएगी और इसको 1982 की तरह चमकाया जाएगा, लेकिन इस दिशा में भी कोई कार्य नहीं किया गया।

भाजपा नेताओं की इस उदासीनता के चलते जयपुर ग्रामीण की जनता में भयंकर नाराजगी है। मुझे क्षेत्र के युवा, महिला, पुरुष, बुजुर्ग सहित समाज के सभी वर्गों का समर्थन मिल रहा है। मुझे जयपुर ग्रामीण सीट से प्रत्याशी घोषित करने के बाद विशेषकर महिला वर्ग में भारी उत्साह देखा जा रहा है। क्षेत्र की जनता यदि मुझे अपना आशीर्वाद देती है तो मैं महिला सशक्तिकरण के लिए काम करूंगी। मेरा घर सदैव जनता के लिए खुला रहेगा।

सभी को साथ लेकर चलेंगे

भाजपा से हमारी विचारधारा की लड़ाई है। ये लोग समाज को तोड़ने में विश्वास रखते हैं, जबकि कांग्रेस पार्टी सभी को साथ लेकर चलने में विश्वास रखती है। हमारा चुनाव घोषणा पत्र इसका उदाहरण है। हमने देश के निर्धन 20 फीसदी वर्ग के लिए न्याय योजना लागू करने का वादा किया है। इसके तहत गरीब परिवार को प्रतिवर्ष 72 हजार रुपए दिया जाएगा। मैं एक किसान परिवार से आती हूं। मैंने किसानों की समस्याएं नजदीक से देखी हैं और महसूस किया है। हमने किसानों की दुर्दशा को सुधारने के लिए केंद्रीय बजट में किसानों के लिए अलग से बजट पेश करने का वादा किया है। बेरोजगारी से ध्यान भटकाने के लिए ही भाजपा इधर-उधर की बातें करती है। हम बेरोजगारी को दूर करेंगे। अब बातों से नहीं काम करने से विकास होगा।